खरीफ पूर्व किसान सम्मेलन, तुरा

3 मार्च, 2017, तुरा

खरीफ पूर्व किसान सम्मेलन, तुराकृषि विज्ञान केन्द्र, वेस्ट गारो हिल द्वारा खरीफ-पूर्व किसान सम्मेलन का आयोजन 3 मार्च, 2017 को केवीके, परिसर में किया गया। डॉ. एस. वी. नचान, निदेशक, उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप अनुसंधान परिसर ने इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की। प्रोफेसर ए. चतुर्वेदी, डीन, गृह विज्ञान महाविद्यालय; डॉ. आर. बोर्दोलोई, प्रधान वैज्ञानिक, अटारी, भाकृअनुप, उमियाम; श्री सी.आर. मारक, डीएचओ, वेस्ट गारो हिल तथा संबंधित विभागों के अधिकारियों ने कार्यक्रम में भाग लिया। गारो हिल के 5 जिलों के किसानों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया।

इस अवसर पर अपने सबोधन में डॉ. नचान ने किसानों से आग्रह किया कि वे एकीकृत कृषि पद्धति तथा स्थानीय उत्पादों के मूल्य संवर्धन को अपनाए और केवीके व अन्य संबंधित विभागों के लिए माननीय प्रधानमंत्री जी के किसानों की आय दोगुनी करने के संकल्प को दुहराया। उन्होंने इस संकल्प को पूरा करने के लिए सभी विभागों की सहभागिता पर बल दिया। प्रोफेसर ए. चतुर्वेदी ने किसानों से आग्रह किया कि वे महाविद्यालय द्वारा प्रत्येक वर्ष आयोजित होने वाले फसल कटाई उपरांत प्रबंधन व मूल्य संवर्धन पर प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लें।

कार्यक्रम के दौरान झूम सुधार कार्यक्रम के एक भाग के रूप में मक्का बीज, ऊपराऊभूमि चावल, सब्जियों और फेरोमोन के जाल और चूजे किसानों को वितरित किए गए। केवीके के वैज्ञानिकों ने पूर्व खरीफ और खरीफ में वैज्ञानिक पशुपालन के साथ ही विभिन्न फसलों की खेती के बारे में चर्चा की।
(प्रस्तुतिः हिन्दी सम्पादकीय एकक)