दक्षिण भारत में पहले भाकृअनुप – फ्लैक्सी बांध का उद्घाटन

2 मार्च, 2017, उधगमंडल

डॉ. एस. भास्कर, सहायक महानिदेशक (एएएफ एंड सीसी), एनआरएम द्वारा दक्षिण भारत में पहले रबर बांध का उधगमंडल में उद्घाटन तथा आईसीएआर- आईआईएसडब्ल्यूसी, अनुसंधान केन्द्र, उधगमंडल का दौरा 2 मार्च, 2017 को किया गया। भाकृअनुप- भारतीय जल प्रबंधन संस्थान, भुबनेश्वर तथा भाकृअनुप- भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, क्षेत्रीय केन्द्र, उधगमंडल के सहयोग से रबर बांध को सिल्लाहल्ला जलभराव, उधगमंडल, नीलगिरी में स्थापित किया गया।

दक्षिण भारत में पहले भाकृअनुप – फ्लैक्सी बांध का उद्घाटनदक्षिण भारत में पहले भाकृअनुप – फ्लैक्सी बांध का उद्घाटन

कार्यक्रम के दौरान प्रेस और मीडिया से बातचीत के दौरान डॉ. भास्कर ने रबर बांध के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि स्थापित रबर बांध इस क्षेत्र के किसानों के लिए काफी लाभदायक होगा जो लचीला होने के कारण आवश्यकता के अनुसार फूल जाएगा तथा बाढ़ के समय पिचक जाएगा। इस प्रकार के लचीले रबड़ चेक बांध बनाने से मृदा अपरदन से बचा जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने रबर चैक बांध की उपयोगिता के बारे में लाभार्थी किसानों से भी बातचीत की।

डॉ. एस. भास्कर, सहायक महानिदेशक ने संस्थान की सुविधाओं जैसे अनुसंधान तथा प्रायोगिक फार्म, प्रौद्योगिकी पार्क, प्रयोगशाला, संग्रहालय, सम्मेलन कक्ष का दौरा किया तथा वैज्ञानिकों तथा प्रशासकीय स्टॉफ से बातचीत की। उन्होंने नकदीरहित हस्तांतरण तथा ईआरपी पद्धति पर भी चर्चा की। डॉ. भास्कर ने केन्द्र के प्रयासों की सराहना की तथा क्षेत्र के विकास में योगदान के लिए सभी वैज्ञानिकों को बधाई दी।

(प्रस्तुतिः हिन्दी सम्पादकीय एकक)