भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्‍द्र (ICAR - NRCSS), अजमेर अजमेर द्वारा 'संकल्‍प से सिद्धि' कार्यक्रम आयोजित किया गया।

1 सितम्‍बर, 2017, अजमेर

वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिए भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्‍द्र (ICAR - NRCSS), अजमेर और कृषि विज्ञान केन्‍द्र, अजमेर द्वारा 'संकल्‍प से सिद्धि' कार्यक्रम आयोजित किया गया। समारोह के मुख्‍य अतिथि श्री भूपेन्‍द्र यादव, माननीय सांसद (राज्‍य सभा) ने इस मिशन को सफल बनाने में सभी विभागों के बीच बेहतर समन्‍वय स्‍थापित करने पर बल दिया। इस अवसर पर, हिन्‍दी पत्रिका 'मसाला सुरभि' का विमोचन किया गया जिससे अपने हितधारकों को मसालों और बीजीय मसालों से संबंधित अनुसंधान एवं अन्‍य आयामों का समाधान प्रस्‍तुत किया जाएगा।

 organizes 'Sankalp Se Siddhi' organizes 'Sankalp Se Siddhi'

डॉ. गोपाल लाल, निदेशक, भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्‍द्र (ICAR - NRCSS), अजमेर ने उपस्थितजनों को केन्‍द्र की अनुसंधान गतिविधियों और किसानों की आय को दोगुना करने हेतु भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्‍द्र (ICAR - NRCSS), अजमेर द्वारा किए गए कार्यों के बारे में बताया। सुश्री वंदना नोगिया, जिला प्रमुख, अजमेर ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने में महिलाओं की भूमिका और योगदान पर प्रकाश डाला। श्री रामचन्‍द्र चौधरी, अध्‍यक्ष, अजमेर डेयरी ने उपस्थितजनों को सम्‍बोधित करते हुए क्षेत्र के लिए डेयरी उद्योग और गोजातीय पशुओं की भूमिका के बारे में विस्‍तार से जानकारी दी। अजमेर के कलेक्‍टर की ओर से बोलते हुए श्री अरूण गर्ग, सीईओ ने समारोह की आयोजन टीम को बधाई दी और इस आन्‍दोलन को सफल बनाने में अपना सहयोग देने का संकल्‍प दोहराया। डॉ. वी.के. शर्मा, उप निदेशक (कृषि), अजमेर ने फसल रकबे और उत्‍पादकता को बढ़ाने के लिए वर्षा जल संचयन और इसके महत्‍व पर बल दिया। अंत में, कुछ प्रगतिशील किसानों को कृषि क्षेत्र में उनके उत्‍कृष्‍ट योगदान के लिए सम्‍मानित किया गया।

(स्रोत : भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्‍द्र (ICAR - NRCSS), अजमेर)