कृषि अनुसंधान एवं विकास पर वैश्विक सम्मेलन (जीसीएऐरडी 2) – 2012

29th अक्टूबर to 1st नवम्बर 2012, उरुग्व

कृषि अनुसंधान एवं विकास पर वैश्विक सम्मेलन (जीसीएऐरडी 2) – 2012कृषि अनुसंधान और विकास पर दूसरा वैश्विक सम्मेलन (जीसीएआरडी 2) पंटा डेल एस्टे, उरुग्वे में 29 अक्टूबर से 1 नवम्बर 2012 तक आयोजित किया गया। जीसीएआरडी 2 ने "छोटे किसानों की आजीविका में सुधार के लिए दूरंदेशी साझेदारी" पर विशेष ध्यान के साथ जीसीएआरडी रोडमैप में पहचाने गये कार्यों को लागू करने के तरीके पर ध्यान केंद्रित किया। सम्मेलन ने दूरंदेशी उद्देश्यों में सहयोग और सभी हितधारकों के बीच संयुक्त कार्रवाई की योजना के लिए एक उत्कृष्ट उदाहरण स्थापित किया है। निश्चय ही, इससे अंतरराष्ट्रीय भागीदारी के अवसरों में और ठोस अनुसंधान और विकास कार्यक्रमों के माध्यम से मूल प्रभावों के लिए नेतृत्व विकास में सहायता मिलेगी।

सम्मेलन का उद्देश्य "क्यों" एआर4डी के परिवर्तन से "कैसे" व्यवहार में जीसीएआरडी रोडमैप को लागू करने के लिए और "क्या" फर्क पड़ता है" था। जीसीएआरडी 2 ने प्रगति और विकास व मजबूत सहयोग के लिए बड़े पैमाने पर विकास की दिशा में नवाचार प्रक्रियाओं को बदलने के लिए, विशेष रूप से गरीब व छोटे किसानों की आजीविका पर कार्रवाई का जायजा लिया।

जीसीएआर के मुख्य बिंदु

  • किस प्रकार कृषि चुनौतियों और छोटे किसानों की जरूरतों पर हमारी सोच और जागरूकता के माध्यम से बेहतर कृषि व नवाचार को आकार दिया जा सकता है
  • क्षमता और निवेश का निर्धारण आवश्यक, विकास के लिए कृषि ज्ञान का उपयोग व पहुँच
  • महिला उत्पादकों की विशिष्ट जरूरतों में कृषि अनुसंधान और ग्रामीण विकास की प्रक्रिया
  • जीसीएआरडी 2010 रोडमैप के कार्यों और उपलब्धियों की सभी स्तरों पर रिपोर्टिंग और वितरण

जीसीएआर के परिणाम

  • एक ग्लोबल दूरदर्शिता हब के माध्यम से सामूहिक कार्रवाई पर सहमति, कई विभिन्न विश्लेषण और भविष्य की जरूरतों की समीक्षा करने के लिए बेहतर नीतियों और प्राथमिकताओं को सूचित करने के लिए एक साथ लाने का प्रयास
  • सीजीआईएआर एसआरएफ कार्य योजना पर सहमति
  • सामान्य प्रयोजनों और सीजीआईएआर अनुसंधान (सीआरपीएस) कार्यक्रमों और अन्य वैश्विक भागीदारी कार्यक्रम के उद्देश्यों के लिए आपसी प्रतिबद्धताओं पर समझौते के माध्यम से छोटे धारकों के लिए सफल प्रभावों की संभावना
  • प्रमुख पहल का शुभारंभ करने के लिए दुनिया भर में क्षमता की जरूरत को संबोधित करना, निवेश वृद्धि, आकर्षक करियर बनाने के लिए और कृषि अनुसंधान और नवाचार के लिए महत्वपूर्ण बाधाओं का संबोधन
  • राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर परिवर्तन और एआर4डी प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए प्रतिबद्धता

कृषि अनुसंधान एवं विकास पर वैश्विक सम्मेलन (जीसीएऐरडी 2) – 2012कृषि अनुसंधान एवं विकास पर वैश्विक सम्मेलन (जीसीएऐरडी 2) – 2012
कृषि अनुसंधान एवं विकास पर वैश्विक सम्मेलन (जीसीएऐरडी 2) – 2012

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के प्रतिनिधिमंडल ने जीसीएआरडी 2012 में डॉ. एस. अय्यप्पन, सचिव (डेयर) और महानिदेशक (आईसीएआर) के नेतृत्व में भाग लिया। अन्य सदस्यों में डॉ. के.डी. कोकाटे, उप निदेशक (विस्तार), आईसीएआर, डॉ. एच.एस. गुप्ता, निदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली, डॉ. (सुश्री) कृष्णा श्रीनाथ, निदेशक, महिला कृषि पर अनुसंधान निदेशालय, भुवनेश्वर और अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे।

(हिन्दी प्रस्तुति: एनएआईपी मास मीडिया परियोजना, कृषि ज्ञान प्रबंध निदेशालय)