सोनमार चौर में किसान क्षेत्र दिवस और पशु स्वास्थ्य कैम्प का आयोजन

27 सितम्बर 2013, समस्तीपुर

पूर्वी क्षेत्र के लिए भा.कृ.अनु.प. अनुसंधान परिसर, पटना ने 'मत्स्य बीज का प्रबंधन' विषय पर किसान क्षेत्र दिवस और पशुपालन कैम्प का आयोजन सोनमार चौर, शहजादपुर गांव, समस्तीपुर, बिहार में किया।

डॉ. बी.पी. भट्ट, निदेशक, पूर्वी क्षेत्र के लिए भा.कृ.अ.प. अनुसंधान परिसर ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने बागवानी, पशुपालन, कृषि वानिकी और उन्नत फसल किस्मों के समेकित प्रयोग से चौर क्षेत्र के समग्र विकास का सुझाव दिया। डॉ. भट्ट ने बताया कि 44 हैक्टर के सम्पूर्ण क्षेत्र का समेकित कृषि के जरिये उत्पादन के लिए प्रयोग किया जा रहा है। उत्पादकता और बिहार के लोगों की आजीविका में सुधार के लिए ऐसा अनूठा मॉडल अन्य चौर क्षेत्र में भी अपनाने की जरूरत बताई।

मुख्य अतिथि डॉ. के.आर. सोलंकी, पूर्व सहायक महानिदेशक (कृषि वानिकी) ने चौर क्षेत्र की प्रगति पर प्रसन्नता व्यक्त की और अतिरिक्त आय के लिए किसानों को बागवानी आधारित कृषि पद्धति अपनाने की सालह दी। .

कार्यक्रम का उद्देश्य चौर क्षेत्र के किसानों, मछुआरों, वैज्ञानिकों, गैर सरकारी संगठनों और अन्य विभागों के लोगों को आजीविका सुधार के लिए प्रौद्योगिकी हस्तक्षेप और कार्यकलापों का प्रदर्शन करना था। सोनमार चैर 48 जलाशयों सहित 44 हैक्टर क्षेत्र में फैला है। इसके 43 लाभार्थियों ने आदान प्रयोग से लेकर मत्स्य और अन्य कृषि उत्पाद विपणन के लिए सोनमार चौर मत्स्य विकास समिति बनाई है। कार्यक्रम में 160 पशुओं का उपचार और टीकाकरण किया गया। इस दौरान बैटरी चालित वायुयंत्रों का प्रदर्शन किया गया और मत्स्य बीज परिवहन के दौरान प्रयोग के लिए मछुआरों को इनका वितरण किया गया। करीब 250 अंशधारकों, वैज्ञानिकों, बीएआईएफ, एनजीओ और अन्य संबंधित विभागों के प्रतिनिधियों ने कार्यक्रम में भाग लिया।

(स्रोतः पूर्वी क्षेत्र के लिए भा.कृ.अ.प. अनुसंधान परिषदपटना)
(हिन्दी प्रस्तुतिः एनएआईपी मास मीडिया परियोजना, डीकेएमए)