माननीय केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री द्वारा भाकृअनुप – भारतीय दलहन अनुसंधान संस्‍थान, कानपुर का दौरा

13thमार्च, 2016, कानपुर

श्री राधा मोहन सिंह, माननीय केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री ने आज यहां भाकृअनुप – भारतीय दलहन अनुसंधान संस्‍थान ( IIPR) , कानपुर का दौरा किया। अपने सम्‍बोधन में श्री सिंह ने बहुफसलचक्र प्रणालियों में तेजी लाने के लिए दलहन फसलों की अल्‍पावधि किस्‍में विकसित करने के लिए कहा। उन्‍होंने अल्‍प, मध्‍यम और दीर्घावधि अनुसंधान प्रयासों पर बल देते हुए दलहन उत्‍पादन बढ़ाने के लिए एक रोडमैप तैयार करने के लिए कहा। दलहन उत्‍पादकों को सम्‍बोधित करते हुए माननीय मंत्री महोदय ने कहा कि लगातार बढ़ रही जनसंख्‍या के लिए पर्याप्‍त मात्रा में खाद्य उत्‍पन्‍न करने हेतु  किसानों तथा वैज्ञानिकों को कदम से कदम मिलाकर एकसाथ आगे बढ़ना चाहिए।

Union Minister of Agriculture and Farmers Welfare Visited IIPR, KanpurUnion Minister of Agriculture and Farmers Welfare Visited IIPR, Kanpur

माननीय मंत्री महोदय ने यहां वैज्ञानिक अपार्टमेंट का शिलान्‍यास किया और संस्‍थान के आनुवंशिक स्‍टॉक प्रबंधन फार्म तथा प्रयोगात्‍मक खेतों का दौरा किया।

श्री राधा मोहन सिंह ने ‘’ उन्‍नत दलहन उत्‍पादन प्रौद्योगिकियों का सार्वजनिकीकरण’’  पर किसानों  के अनुकूल एक बुलेटिन को जारी किया। माननीय मंत्री महोदय द्वारा जिला हमीरपुर के गांव विदोखर के एक किसान श्री राजेन्‍द्र प्रसाद सविता को पंडित दीन दयाल उपाध्‍याय कृषि अंत्‍योदय पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया।  

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भाकृअनुप, नई दिल्‍ली ने अपने स्‍वागत भाषण में अंतर्राष्‍ट्रीय दलहन वर्ष की महत्‍ता और विशिष्‍टता की पृष्‍ठभूमि को ध्‍यान में रखकर देश में दलहन उत्‍पादन के परिदृश्‍य के बारे में संक्षिप्‍त प्रकाश डाला। उन्‍होंने नई उच्‍च उपजशील किस्‍मों के विकास में तथा फसल उत्‍पादन प्रौद्योगिकियों की मैचिंग में संस्‍थान की उपलब्धियों के बारे में बताया।

डॉ. एन.पी. सिंह, निदेशक, भाकृअनुप – भारतीय दलहन अनुसंधान संस्‍थान, कानपुर ने सभी को भरोसा दिलाया कि सरकार के भरपूर सहयोग और व्‍यापक वैज्ञानिक तथा तकनीकी मजबूती से दलहन के उत्‍पादन में सभी लक्ष्‍यों को हासिल कर लिया जाएगा। साथ ही उन्‍होंने यह भी भरोसा जताया कि अंतर्राष्‍ट्रीय दलहन वर्ष में वैज्ञानिक और दलहन उत्‍पादक देश को दलहन के मामले में आत्‍मनिर्भर बनाने में कोई कसर नहीं छोडेंगे।

(स्रोत : भाकृअनुप – भारतीय दलहन अनुसंधान संस्‍थान, कानपुर)