कृषि विश्‍वविद्यालयों के लेखा नियंत्रकों के साथ पारस्‍परिक बैठक

28 दिसम्‍बर, 2015, हैदराबाद

‘’भारत में उच्‍चतर कृषि शिक्षा का सुदृढ़ीकरण और विकास’’ योजना स्‍कीम के तहत कृषि विश्‍वविद्यालयों को प्रदान किए गए भाकृअनुप अनुदान से संबंधित विभिन्‍न मुद्दों पर चर्चा करने के लिए  भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि शिक्षा प्रभाग, नई दिल्‍ली और कृषि विश्‍वविद्यालयों के लेखा नियंत्रकों की पारस्‍परिक बैठक का आयोजन दिनांक 28 दिसम्‍बर, 2015 को भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंधन अकादमी  (NAARM), हैदराबाद में किया गया ।

Interactive meeting with Comptrollers of Agricultural Universities Interactive meeting with Comptrollers of Agricultural Universities

बैठक का आयोजन डॉ. एन.एस. राठौर, उपमहानिदेशक (कृषि शिक्षा), भाकृअनुप की अध्‍यक्षता में किया गया। डॉ. राठौर ने योजना के प्रभावी क्रियान्‍वयन के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि शिक्षा प्रभाग और कृषि विश्‍वविद्यालयों के लेखा नियंत्रकों के बीच आपसी भागीदारी तथा देश में शिक्षा में सुधार लाने और गुणवत्‍ता के लिए लेखा नियंत्रकों की महत्‍वपूर्ण भूमिका पर बल दिया।

डॉ. डी. रामा राव, निदेशक, भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंधन अकादमी  (NAARM) , हैदराबाद ने नार्म के बारे में तथा राष्‍ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणाली (NARS) को मजबूती प्रदान करने में इसकी भूमिका के बारे में संक्षिप्‍त जानकारी दी।

गुरू मैनेजमेन्‍ट कन्‍सलटेंट के डॉ. एन.पी. राजसेखरन ने ‘’नेतृत्‍व मामला : संतुलित सेवा एवं नियंत्रण’’ पर एक आमंत्रित चर्चा प्रस्‍तुत की। चर्चा में समुदाय को कहीं अधिक लाभ सुनिश्चित करने के लिए प्रभावशीलता हेतु प्रबंधन युक्तियों पर फोकस किया गया। उन्‍होंने भाकृअनुप के प्रभागों के बीच तथा भाकृअनुप और कृषि विश्‍वविद्यालयों के बीच बेहतर सम्‍पर्क हेतु अनेक सुधारात्‍मक कदम उठाने की जरूरत बताई।

डॉ. पी.एस. पाण्‍डेय, सहायक महानिदेशक (शिक्षा योजना एवं गृह विज्ञान) ने योजना के क्रियान्‍वयन हेतु कृषि विश्‍वविद्यालयों के लेखा नियंत्रकों द्वारा विभिन्‍न मुद्दों पर तुरंत ध्‍यान देने के लिए कहा।

डॉ. एम.बी. चेट्टी, सहायक महानिदेश्‍क (मानव संसाधन विकास) ने प्रशासन और प्रबंधन को मजबूत बनाकर भारतीय कृषि शिक्षा में सुधार करने हेतु की गईं अनेक नई पहलों के बारे में चर्चा की।

इस बैठक में कृषि विश्‍वविद्यालयों के लेखा नियंत्रकों ने भाग लिया।

(स्रोत : कृषि शिक्षा प्रभाग, भाकृअनुप )