कटाई उपरांत अभियांत्रिकी पर अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना की कार्यशाला

4 जनवरी, 2016, कोयम्‍बटूर, तमिलनाडु

खाद्य एवं कृषि प्रसंस्‍करण अभियांत्रिकी विभाग, कृषि अभियांत्रिकी कॉलेज व अनुसंधान संस्‍थान, तमिलनाडु कृषि विश्‍वविद्यालय (TNAU) द्वारा दिनांक 4 – 6 जनवरी, 2016 को ‘कटाई उपरांत अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी’ पर अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना की तीन दिवसीय कार्यशाला का  आयोजन किया गया। इस कार्यशाला में 100 से भी अधिक वैज्ञानिकों ने भाग लिया।

Workshop of AICRP on Post Harvest EngineeringWorkshop of AICRP on Post Harvest Engineering

डॉ. के. रामासामी, कुलपति, तमिलनाडु कृषि विश्‍वविद्यालय एवं कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि ने अपने संबोधन में इस बात पर बल दिया कि कटाई उपरांत नुकसान को कम करने में मूल्‍य वर्धन एक सर्वश्रेष्‍ठ तरीका है। उन्‍होंने तमिलनाडु कृषि विश्‍वविद्यालय द्वारा विकसित प्रसंस्‍करण विधियों का उदाहरण दिया।

डॉ. के. अलगुसुन्‍दरम, उपमहानिदेशक (कृषि अभियांत्रिकी), भाकृअनुप ने पारम्‍परिक मोड की बजाय कंसोर्शियम अथवा अनुसंधान के मूल्‍य श्रृंखला मोड पर जोर दिया जिससे किसानों को तुरंत लाभ पहुंचाने की सुविधा मिलेगी।

(स्रोत : कटाई उपरांत अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी, कृषि अभियांत्रिकी प्रभाग, भाकृअनुप)