भरतपुर में सरसों विज्ञान मेला

18 फरवरी, 2016, भरतपुर, राजस्‍थान

श्री मोहनभाई कल्‍याणजीभाई कुंडारिया, माननीय कृषि एवं किसान कल्‍याण राज्‍य  मंत्री ने आज यहां भाकृअनुप – तोरिया सरसों अनुसंधान निदेशालय, भरतपुर, राजस्‍थान में आयोजित 22वें सरसों विज्ञान मेले का उद्घाटन किया।

Sarson Vigyan Mela at BharatpurSarson Vigyan Mela at Bharatpur

श्री कुंडारिया ने अपने उद्घाटन संबोधन में किसानों के लिए चलाईं जा रहीं विभिन्‍न सरकारी योजनाओं यथा फसल बीमा योजना, मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड योजना, प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना तथा राष्‍ट्रीय कृषि बाजार अथवा ‘ई-मंडी’ के बारे में विस्‍तार से बताया। उन्‍होंने किसान मेलों की भूमिका के बारे में बताते हुए कहा ये मेले किसानों तक प्रौद्योगिकियों का हस्‍तांतरण करने में महत्‍वपूर्ण होते हैं। उन्‍होंने सभी हितधारकों से तोरिया-सरसों फसल से बेहतर परिणाम हासिल करने के लिए इस संस्‍थान से लाभ उठाने के लिए कहा। मंत्री महोदय ने भाकृअनुप – तोरिया सरसों अनुसंधान निदेशालय, भरतपुर के प्रयोगात्‍मक फार्म का दौरा भी किया।

श्री बहादुर सिंह कोली, माननीय सांसद ने भी कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। उन्‍होंने वैज्ञानिकों से कम निवेश वाली कृषि प्रौद्योगिकियां विकसित करने का आह्वान किया जो कि किसान समुदाय के लिए लाभदायक होंगी।

इस अवसर पर माननीय अतिथियों ने प्रगतिशील और नवोन्‍मेषी किसानों को सम्‍मानित किया और संस्‍थान के प्रकाशनों को जारी किया।

दिनांक 18 से 20 फरवरी, 2016 तक चले इस सरसों विज्ञान मेले में राजस्‍थान और निकटवर्ती राज्‍यों से लगभग 5000 से भी अधिक किसानों ने भाग लिया। किसानों ने किसान गोष्‍ठी में भी अपनी भागीदारी दर्ज कराई और तोरिया-सरसों की खेती से जुड़े मामलों पर चर्चा की।

इससे पहले, डॉ. धीरज सिंह, निदेशक, भाकृअनुप – तोरिया सरसों अनुसंधान निदेशालय, भरतपुर ने अतिथियों का स्‍वागत करते हुए संस्‍थान की हालिया उपलब्धियों और गतिविधियों की जानकारी दी।

(स्रोत : भाकृअनुप – तोरिया सरसों अनुसंधान निदेशालय, भरतपुर)