काजू दिवस समारोह

29 मार्च, 2016, पुत्‍तूर

अग्रिम पंक्ति काजू उत्‍पादन  प्रौद्योगिकियों पर किसानों को प्रौद्योगिकी समर्थन देने के लिए आज भाकृअनुप – काजू अनुसंधान निदेशालय, पुत्‍तूर में वार्षिक काजू दिवस मनाया गया।

Cashew Day CelebratedCashew Day CelebratedCashew Day Celebrated

कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि डॉ. एच.पी. सिंह, पूर्व उपमहानिदेशक (बागवानी), भाकृअनुप ने अपने संबोधन में विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी की शक्ति का इस्‍तेमाल करते हुए काजू उद्यानों के बेहतर प्रबंधन की जरूरत पर बल दिया। उन्‍होंने वि‍कास विभागों के साथ मिलकर प्रौद्योगिकियों की व्‍यापक स्‍तर पर पहुंच स्‍थापित करने का अनुरोध किया। उनके मतानुसार काजू उत्‍पादक किसानों द्वारा किसान उत्‍पादक एसोसिएशन प्रारंभ की जाएं ताकि किसानों को अपनी फसल से कहीं अधिक लाभ मिल सके।

इससे पूर्व, डॉ. एस.डी; शरानप्‍पा, पुलिस अधीक्षक, दक्षिण कन्‍नड़ तथा कार्यक्रम के विशिष्‍ट अतिथि ने उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए महान पेशे के रूप में कृषि की महत्‍ता पर प्रकाश डाला। उन्‍होंने काजू की खेती में उपज और आय में टिकाऊपन बनाने पर जोर दिया और जमीनी स्‍तर पर काजू प्रसंस्‍करण का संस्‍थानीकरण करने के लिए कहा।

अपने अध्‍यक्षीय संबोधन में प्रो. पी.एल. सरोज, निदेशक, भाकृअनुप – काजू अनुसंधान निदेशालय, पुत्‍तूर ने किसानों से काजू की खेती से अधिक लाभ लेने के लिए वैज्ञानिकों द्वारा बताई गई उचित सिफारिशों के साथ सही प्रौद्योगिकियों का पालन करने का अनुरोध किया। उन्‍होंने माना कि इन किसानों की उपलब्धियों से नए किसानों को भी वैज्ञानिक तरीके से काजू की खेती करने के लिए प्रेरणा मिलेगी।

इस अवसर पर, काजू उत्‍पादन प्रौद्योगिकियों की एक प्रदर्शनी भी लगाई गई और साथ ही आगन्‍तुकों को काजू के विभिन्‍न अनुसंधान प्‍लॉटों का खेत दौरा भी कराया गया।  

कार्यक्रम में अतिथिगणों द्वारा दो प्रकाशनों यथा ‘’इन्‍सेक्‍ट पेस्‍ट्स ऑफ कैश्‍यू एंड देअर मैनेजमेंट’’ तथा ‘’कैश्‍यू कल्‍टीवेशन प्रैक्टिसस’’ को जारी किया गया।

इस कार्यक्रम में नर्सरी उत्‍पादकों, कृषि विज्ञान केन्‍द्र, विकास विभाग, गैर सरकारी संगठनों  के प्रतिनिधियों तथा वैज्ञानिकों के साथ साथ 150 से भी अधिक काजू की खेती करने वाले किसानों ने भाग लिया।

(स्रोत : भाकृअनुप – काजू अनुसंधान निदेशालय, पुत्‍तूर)