भाकृअनुप एवं एएनएएसटीयू के बीच समझौता ज्ञापन

21 अप्रैल, 2016, नई दिल्‍ली

ICAR signed MoU with ANASTUडॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भाकृअनुप ने आज यहां कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद,  नई दिल्‍ली तथा अफगान राष्‍ट्रीय कृषि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय,  कंधार, अफगानिस्‍तान के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किये।

अफगान राष्‍ट्रीय कृषि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय,  कंधार, अफगानिस्‍तान की स्‍थापना फरवरी 2014 में उच्‍चतर शिक्षा मंत्रालय, अफगानिस्‍तान सरकार के फ्रेमवर्क के भीतर रहकर शिक्षा सेक्‍टर में सरकार की विकास नीति के आधार पर की गई थी। अफगान राष्‍ट्रीय कृषि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय,  कंधार, अफगानिस्‍तान का मुख्‍य फोकस तीन व्‍यापक क्षेत्रों नामत: कृषि एवं पशु चिकित्‍सा विज्ञान में अनुंधान, शिक्षा और प्रसार पर है। अफगान राष्‍ट्रीय कृषि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय, कंधार, अफगानिस्‍तान का विजन अफ्गानिस्‍तान में कृषि के क्षेत्र में कृषि वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों की कमी को दूर करना है।

इस समझौता ज्ञापन में दोनों देशों के बीच शिक्षा और अनुसंधान कार्यक्रमों, क्षमता निर्माण तथा शैक्षणिक आदान-प्रदान, वैज्ञानिकों और तकनीकीविदों का आदान प्रदान, जननद्रव्‍य तथा प्रजनन सामग्री का आदान-प्रदान, वैज्ञानिक साहित्‍य व सूचना तथा कार्यप्रणाली का आदान-प्रदान, उपलब्‍ध वैज्ञानिक उपकरणों का आदान-प्रदान करने के क्षेत्रों में आपसी सहयोग को बढ़ाना और आपसी सहमति से साझा हितों के कार्यक्रमों को लागू करना तथा धारा में आईपीआर नियमों को पूरा करते हुए आपसी सहमति से सहयोगात्‍मक अनुसंधान परियोजनाओं का विकास एवं क्रियान्‍वयन करना शामिल है।

निम्‍नलिखित कार्रवाई करके सहयोग को लागू किया जाएगा :

  1. संबंधित पक्षों के संगठनों के वैज्ञानिक और तकनीकी प्रभागों के लिए आपसी संबंध स्‍थापित करना;
  2. वैज्ञानिकों, प्रौद्योगिकियों और विशेषज्ञों के आदान-प्रदान के लिए सुविधाओं का सृजन करना और उनका समुचित नियोजन करना 

इस समझौता ज्ञापन को संयुक्‍त रूप से विकसित किए जाने वाली द्विवार्षिक कार्य योजना के माध्‍यम से लागू किया जाएगा। दोनों पक्षों के प्रतिनिधियों के साथ एक संयुक्‍त वर्किंग समूह बनाया जाएगा।

(स्रोत : अंतर्राष्‍ट्रीय संबंध इकाई, भाकृअनुप )