माननीय कृषि एवं किसान कल्‍याण राज्‍य मंत्री ने तटीय इकोसिस्‍टम के लिए अनुकूलन अनुसंधान करने पर दिया बल

18 नवम्‍बर, 2015, गोवा

डॉ. संजीव कुमार बालियान, माननीय कृषि एवं किसान कल्‍याण राज्‍य मंत्री, भारत सरकार ने आज यहां भाकृअनुप – केन्‍द्रीय तटीय कृषि अनुसंधान संस्‍थान, गोवा का दौरा किया । डॉ. बालियान ने किसानों की आजीविका में सुधार लाने के लिए किसानों को प्रौद्योगिकियों का प्रसार करने पर बल दिया। इन्‍होंने इस बात की आवश्‍यकता जताई कि वैज्ञानिकों को किसानों के गहन सम्‍पर्क में रहकर किसानों के अनुकूल प्रौद्योगिकियों  और कार्यप्रणालियों का विकास तथा प्रसार करना चाहिए।डॉ. बालियान ने सुझाव दिया कि तटवर्ती इकोसिस्‍टम में जलवायु परिवर्तन, भूमि उपयोग पैटर्न तथा स्‍थलाकृति के उपयुक्‍त अनुकूलन अनुसंधान प्रारंभ किया जाना चाहिए। मंत्री महोदय ने वर्जिन नारियल तेल के लिए उत्‍पादन सुविधा की आधारशिला रखी और कृषि विज्ञान केन्‍द्र के दुबारा बने भवन का उद्घाटन किया। मंत्री महोदय ने संस्‍थान के प्रयोगात्‍मक फार्म, इकाइयों तथा प्रदर्शन प्‍लॉटों और उत्‍तरी गोवा स्थित कृषि विज्ञान केन्‍द्र का दौरा भी किया।

Union Minister of State for Agriculture and Farmers Welfare stresses on adaptive research for coastal ecosystem Union Minister of State for Agriculture and Farmers Welfare stresses on adaptive research for coastal ecosystem Union Minister of State for Agriculture and Farmers Welfare stresses on adaptive research for coastal ecosystem

डॉ. बालियान के साथ डॉ. भोला (माननीय सांसद, बुलन्‍दशहर, उत्‍तर प्रदेश) तथा श्री सतीश कुमार गौतम (माननीय सांसद, अलीगढ़, उत्‍तर प्रदेश) भी थे।

डॉ. नरेन्‍द्र प्रताप सिंह, निदेशक, भाकृअनुप – केन्‍द्रीय तटीय कृषि अनुसंधान संस्‍थान, गोवा ने मंत्री महोदय को संस्‍थान की विभिन्‍न गतिविधियों तथा चल रहीं परियोजनाओं के बारे में जानकारी दी।

इस अवसर पर संस्‍थान द्वारा विकसित विभिन्‍न प्रौद्योगिकियों को दर्शाने के लिए एक प्रदर्शनी भी लगाई गई। इस अवसर पर संस्‍थान के वैज्ञानिकतथा स्‍टॉफ और राज्‍य सरकार के अधिकारीगण व प्रेस व मीडिया के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

(स्रोत : भाकृअनुप – केन्‍द्रीय तटीय कृषि अनुसंधान संस्‍थान, गोवा)