ऊंट दूध उत्पादन सोसायटी पर बल

23 जुलाई 2016, बीकानेर

Need for formation of Camel Milk Production Societies Emphasized श्री आत्माराम देवासी, गौपालन एवं देवास्थान मंत्री, राजस्थान ने भाकृअनुप- राष्ट्रीय ऊंट अनुसंधान केन्द्र, बीकानेर का दौरा किया।

राज्य के 70 की संख्या में ऊंट पालकों व एनआरसीसी, एआरसी सीएसडब्ल्यूआरआई और ईपीसी एनआरसीई के अधिकारियों व तकनीकी स्टॉफ को संबोधित करते हुए मंत्री महोदय ने ऊंट पालकों से कहा कि वे ऊंट के दूध उत्पादन सोसायटी बनाने की पहल करें। इससे दूध को संग्रह करने, प्रसंस्कृत करके उत्पाद बनाने और मार्केटिंग जैसे कार्य योजना मोड में किये जा सकते हैं जिसके लिए मंत्री महोदय ने सहयोग के लिए आश्वस्त किया। उन्होंने केन्द्र के अनुसंधान कार्यों के द्वारा ऊंट को एक दुधारू पशु के रूप में प्रचारित करने के प्रयासों को सराहना की। इससे राजस्थान व देश के अन्य हिस्सों के ऊंट पालकों की आजीविका में सहायता मिलेगी। इसके साथ ही उन्होंने ऊंट के दूध के उत्पादन और विकास के लिए केन्द्र द्वारा स्थानीय तौर पर उपलब्ध पारंपरिक एवं गैर-पारंपरिक चारों से विकसित फीड ब्लॉक्स/पैलेट्स ( आहार ब्लॉक्स एवं गुटिका) की सराहना की।

डॉ. एन.वी. पाटिल, निदेशक, भाकृअनुप – राष्ट्रीय ऊंट अनुसंधान केन्द्र, बीकानेर ने ऊंट पालकों के लाभ एवं ऊंट पालन को लाभदायी बनाने में सहयोगी केन्द्र द्वारा विकसित तकनीकों के बारे में जानकारी दी।

(स्रोतः भाकृअनुप – राष्ट्रीय ऊंट अनुसंधान केन्द्र, बीकानेर)