ब्रिक्स कृषि अनुसंधान मंच के लिए विशेषज्ञ बैठक

27 जून, 2016, नई दिल्ली

"ब्रिक्स कृषि अनुसंधान मंच के लिए ब्रिक्स विशेषज्ञों की बैठक" 27-28 जून, 2016 को आयोजित की गई, जिसका उद्देश्य ब्रिक्स कृषि अनुसंधान केंद्र की रूपरेखा का दस्तावेजीकरण और उस पर चर्चा करना था।

Experts Meeting for BRICS Agricultural Research Platform Experts Meeting for BRICS Agricultural Research Platform

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भाकृअनुप ने इस बैठक की अध्यक्षता की एवं अपने संबोधन में सदस्य देशों की सहायता से ब्रिक्स कृषि अनुसंधान केन्द्र की स्थापना की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स संगठन देशों के लाभ के लिए एक या अधिक देशों की संभावनाओं और क्षमताओं को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। इसके साथ ही डॉ. महापात्र ने बताया कि ब्रिक्स देशों के बीच चिन्हित गतिविधियों में कृषि अनुसंधान और शिक्षा के क्षेत्र में आपसी सहयोग पहले से ही विद्यमान है।

श्री छबिलेन्द्र राउल, अपर सचिव, डेयर और सचिव, भाकृअनुप ने अपने संबोधन में ब्रिक्स कृषि अनुसंधान केंद्र के महत्व की चर्चा की।

श्री ए. डिमरी, संयुक्त सचिव, विदेश मंत्रालय, ने मॉस्को में आयोजित ब्रिक्स कृषि सहयोग कार्य समूह की 5वीं बैठक, (12-13 अगस्त, 2015) के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी। इस बैठक में गतिविधियों और धन पूर्ति संबंधित आवश्यकताओं के बारे में भारत से केन्द्र पर अधिक सूचना देने की बात कही गई थी।

सदस्य देशों अर्थात्, ब्राजील, रूस, चीन और दक्षिण अफ्रीका के प्रतिनिधियों ने प्राकृतिक संसाधनों के सतत प्रबंधन तथा उत्पादन व उत्पादकता वृद्धि के माध्यम से खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के अलावा भूख व गरीबी को दूर करने के महत्व पर बल दिया।

Experts Meeting for BRICS Agricultural Research Platform Experts Meeting for BRICS Agricultural Research Platform

इस बैठक में भारत द्वारा ब्रिक्स कृषि अनुसंधान केंद्र पर एक विस्तृत अवधारणा प्रस्तुत की गई। विजन, मिशन, अधिदेश, उद्देश्य, व्यापक गतिविधियों और क्रियान्वयन रणनीति पर चर्चा की गई।

दक्षिण अफ्रीका, चीन, रूस और ब्राजील और भारतीय प्रतिनिधिमंडल के अधिकारी, डेयर व भाकृअनुप, विदेश मंत्रालय तथा भारत सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस बैठक में भाग लिया।

(स्रोत: अंतरराष्ट्रीय संबंध प्रभाग, भाकृअनुप)