एराइज 2016 - कृषि स्टार्टअप्स के लिए लॉन्च पैड जारी

9 जून 2016, नई दिल्ली

क्षेत्रीय प्रौद्योगिकी प्रबंधन और व्यापार योजना एवं विकास इकाई, भाकृअनुप - भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली द्वारा क्षेत्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया और एराइज लॉन्च दिवस मनाया गया।

Arise Launch Arise Launch Arise Launch

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भाकृअनुप ने अपने भाषण में कहा कि बिना जागरुकता के सार्थक परिणाम नहीं प्राप्त किए जा सकते हैं। बेहतर परिणाम के लिए सभी संस्थाओं, उद्यमियों व हितधारकों को सजग और जागना होगा। उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि सफल उद्यमियों के अनुभवों को इकट्ठा कर उन्हें सफलता गाथा के रूप में प्रचारित किया जाना चाहिए ताकि उभरते उद्यमी लाभान्वित हो सके। उन्होंने विकासशील उद्यमों के लिए बाजार की बौद्धिक कुशलता और राष्ट्रीय बैद्धिक संपदा (आईपीआर) के महत्व पर प्रकाश डाला।

डॉ. संजीव सक्सेना, सहायक महानिदेशक, आईपी एंड टीएम प्रभाग, भाकृअनुप ने कहा कि ज्ञान प्रबंधन के लिए आईपीआर में सभी हितधारकों के बीच वित्तीय संसाधन, साझेदारी और ज्ञान के आदान-प्रदान शामिल हैं। इसलिए परिषद द्वारा संस्थानों और उद्यमियों का एक मजबूत नेटवर्क निर्माण होना चाहिए।

डॉ. रविंदर कौर, निदेशक, भाकृअनुप – भाकृअनुस ने कृषि के लिए प्रासंगिक प्रौद्योगिकियों के व्यावसायीकरण की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि हितधारकों को एनआरएम प्रौद्योगिकियां उपलब्ध करायी जानी चाहिए तथा इनका व्यासायीकरण भी होना चाहिए।

डॉ. के.वी. प्रभु, संयुक्त निदेशक (अनुसंधान), भाकृअनुप – भाकृअनुस, नई दिल्ली ने सभी ज्ञान भागीदारों, उद्यमियों और संस्थाओं से आग्रह किया कि वे मजबूत व व्यावहारिक आपसी मजबूत संबंधों का निर्माण करें। इससे उद्यमिता विकास की प्रक्रिया की प्रभावशीलता को बढ़ाने में मदद मिलेगी।

डॉ. नीरू भूषण, प्रभारी, जीटीएम - बीपीडी इकाई ने यह सूचित किया कि एराइज 2016 ऑनलाइन द्वारा 30 जून से 04 अगस्त 2016 तक ऑनलाइन व ऑफलाइन आवेदन स्वीकार किये जाएंगे। उभरते उद्यमी एराइज2016 में फेसबुक, ट्वीटर के माध्यम से भी हिस्सा ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि एराइज 2016 मेंटरशिप को दो चरणों में सलाह 15 दिन के लिए और व्यापार कार्यशाला 6 दिनों की होगी। अंत में उन्होंने बताया कि एराइज 2016 का उद्देश्य सभी हितधारकों को एक ही मंच पर सभी समाधान प्रदान करना है।

(स्रोत: भाकृअनुप - भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली)