केंद्रीय कृषि मंत्री का स्वदेशी मछली विविधता के संरक्षण पर जोर

13 जून 2016, इलाहाबाद

श्री राधा मोहन सिंह, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने 13 जून, 2016 को भाकृअनुप – केन्द्रीय अंतःस्थलीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान, क्षेत्रीय केंद्र, इलाहाबाद का दौरा किया।

Union Agriculture Minister Emphasized Conservation of Indigenous Fish DiversityUnion Agriculture Minister Emphasized Conservation of Indigenous Fish Diversity

मंत्री महोदय ने वैज्ञानिकों और कर्मचारियों के साथ बातचीत में इस बात पर बल दिया कि प्रमुख नदियों में विदेशी मछलियों को अधिक संख्या में आने से रोकने के लिए प्रभावी उपाय विकसित किए जाने चाहिए। इससे स्वदेशी मछलियों की विविधता को बचाने व प्रभावी संरक्षण में मदद मिलेगी। इसके साथ ही उन्होंने इस दिशा में संस्थान के क्षेत्रीय मुक्त जलाशयों में मात्स्यिकी संसाधनों के सुधार संबंधित प्रयासों, प्रदर्शनों, मछलियों की उत्पादन में वृद्धि एवं राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन कार्यक्रम के तहत गंगा की संवेदनशील मछली किस्मों के संरक्षण एवं उचित व्यवस्था संबंधी नई पहलों की सराहना की।

डॉ. के.डी. जोशी, केंद्र प्रमुख ने केन्द्र की महत्वपूर्ण उपलब्धियों और प्रमुख गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। डॉ. जोशी ने केन्द्र द्वारा पूरी की गई पर्यावरण के बहाव अध्ययन योजना के परिणामों जैसे, जलीय प्रभाव आकलन व नदी की संरचना परिवर्तन द्वारा मात्स्यिकी विविधता तथा रचना पर पड़ने वाले प्रभावों के अध्ययन के बारे में जानकारी दी।

डॉ. यू.एस. गौतम, निदेशक, अटारी, कानपुर भी इस अवसर पर उपलब्ध थे।

(स्रोत: भाकृअनुप – केन्द्रीय अंतःस्थलीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान, क्षेत्रीय केंद्र, इलाहाबाद)