भाकृअनुप – काजरी की 58वां स्थापना दिवस समारोह

1 अक्टूबर, 2016, जबलपुर

भाकृअनुप – केन्द्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान (काजरी), जोधपुर द्वारा 1 अक्टूबर, 2016 को 58वां स्थापना दिवस समारोह मनाया गया।

Foundation Day of CAZRI Celebrated: Foundation Day of CAZRI Celebrated:

डॉ. गुरबचन सिंह, अध्यक्ष, कृषि वैज्ञानिक चयन मंडल, नई दिल्ली, सभा के अध्यक्ष ने “जलवायु अनुकूल कृषि: भविष्य की राह” विषय पर व्याख्यान प्रस्तुत किया। उन्होंने मौसम संबंधी समस्याओं से निपटने के लिए आकस्मिक कृषि योजनाओं के निर्माण और शुष्क क्षेत्रों में उच्च आय तथा टिकाऊ आजीविका सुनिश्चित करने के लिए एकीकृत कृषि प्रणाली मॉडल के विकास द्वारा कृषि संबंधित जोखिम को कम करने पर बल दिया। इसके साथ ही उन्होंने स्थानीय स्तर पर जलवायु अनुकूल कृषि एवं पशुधन प्रबंधन के विकास के लिए शुष्क दक्षिणी राजस्थान के किसान समुदायों की प्रशंसा की।

डॉ. के.पी.एस. विट्ठल, पूर्व निदेशक (काजरी) ने स्वागत भाषण दिया।

इससे पूर्व डॉ ओ.पी. यादव, निदेशक, काजरी ने अपने स्वागत संबोधन में पिछले एक वर्ष के दौरान संस्थान द्वारा उठाए गए नए कदमों के बारे में जानकारी प्रदान दी। उन्होंने गेहूं की खारची किस्म के संरक्षक खारची ग्राम पंचायत को सहयोग देने के लिए काजरी केवीके, पाली की प्रशंसा की। हालही में खारची किस्म के संरक्षण के लिए पौध अनुवांशिकी संरक्षण समुदाय को पीपीवी एवं एफआरए द्वारा 10 लाख रुपये का पुरस्कार प्रदान किया गया है।

गणमान्यों ने प्रमुख फसलों के लिए 90 विकसित कल्टिवेटर वाले 'क्रॉप कैफेटेरिया' क्षेत्र और संस्थान द्वारा जारी खेत अनुसंधान क्षेत्रों के दौरे किए।

इस अवसर पर दस स्टॉफ के सदस्यों को उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में “विंड इरोजन एंड इट्स कंट्रोल इन वेस्टर्न राजस्थान” और “गौर प्रोडक्शन, यूटिलाइजेशन एंड मार्केटिंगः करेंट सिनारियो एंड फ्यूटर प्रोस्पेक्ट्स” नामक दो बुलेटिन और पश्चिमी राजस्थान में विलुप्ति के खतरे वाले औषधीय पौधों पर दो सीडी “पीपली थोर” और “लुप्त प्राय सेरोपेजिआ का संरक्षण एवं संवर्धन” जारी किए गए।

डॉ. बलराज सिंह, कुलपति, कृषि विश्वविद्यालय, जोधपुर; डॉ. आर.पी. धीर, पूर्व निदेशक, काजरी तथा संस्थान के वैज्ञानिकों व स्टॉफ ने कार्यक्रम में भाग लिया।

(स्रोतः भाकृअनुप – केन्द्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान, जोधपुर)