डॉ. जितेन्द्र सिंह द्वारा सांबा में केवीके का शिलान्यास

4 दिसंबर, 2016, सांबा

डॉ. जितेन्द्र सिंह, केन्द्रीय उत्तर-पूर्वी विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) वैयक्तिक, सार्वजनिक शिकायत एवं पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष विभाग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 4 दिसंबर, 2016 को जम्मू-कश्मीर के सांबा जिले में कृषि विज्ञान केंद्र की आधारशिला का अनावरण किया गया।

Foundation stone of KVK in Samba laid by Dr. Jitendra Singh Foundation stone of KVK in Samba laid by Dr. Jitendra Singh

श्री सिंह ने कहा कि खेती सांबा जिले के बहुसंख्यक आबादी के लिए आजीविका का प्रमुख साधन है। इस जिले में केवीके की स्थापना से कृषि से संबंधित नई प्रौद्योगिकियों को अपनाने से संबंधित किसानों के व्यवहार व सोच में काफी बदलाव आएगा। उन्होंने इस तथ्य पर बल देकर कहा कि भारत सरकार किसानों और ग्रामीण जनता की आर्थिक स्थिति में सुधार लाने तथा गरीबी दूर करने के उद्देश्य से अधिकतम कार्य कर रही है।

श्री चंद्र प्रकाश गंगा, उद्योग एवं व्यापार मंत्री, जम्मू एवं कश्मीर ने अपने संबोधन में एसकेयूएएसटी- जम्मू को सांबा जिले में नए केवीके की स्थापना के लिए बधाई दी। उन्होंने कृषि के महत्व के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि केवीके की स्थापना से जिले के किसानों को नई प्रौद्योगिकियों के बारे में जानकारी प्राप्त होगी जिससे कृषि उत्पादकता में बढ़ोतरी होगी।

श्री जुगल किशोल शर्मा, सांसद ने अपने संबोधन में भारत सरकार द्वारा जारी किसानोपयोगी योजनाओं के महत्व के बारे में जानकारी दी।

डॉ. देवेन्द्र कुमार मन्याल, विधायक, सांबा ने जिले की कृषि स्थितियों के बारे में जानकारी दी तथा कहा कि केवीके की स्थापना जैसे महत्वपूर्ण कदम से किसानों के जीवन में समृद्धि आएगी।

डॉ. पी.के. शर्मा, कुलपति, एसकेयूएएसटी- जम्मू ने ग्रामीण युवाओं, कृषक महिलाओं तथा किसानों तक तकनीकी ज्ञान पहुचाने में केवीके की भूमिका की चर्चा की।

डॉ. आर.के. अरोरा, सहायक निदेशक विस्तार (केवीके), एसकेयूएएसटी ने अपने स्वागत भाषण में केवीके की अधिदेश के बारे में जानकारी दी जिसके तहत प्रशिक्षण कार्यक्रम, खेत परीक्षण तथा प्रथम पंक्ति प्रदर्शन आयोजित किए जाते हैं।

डॉ. राजबीर सिंह, निदेशक, भाकृअनुप – अटारी, लुधियाना ने कार्यक्रम में उपस्थित गणमान्यों तथा किसानों को धन्यवाद ज्ञापित किया।

लगभग 1000 किसानों, महिला कृषकों, युवाओं तथा अधिकारियों ने इस उद्घाटन समारोह में भाग लिया।

(स्रोतः भाकृअनुप – कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान, लुधियाना)