उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप - अनुसंधान परिसर, उमियाम में फार्मर्स फर्स्ट योजना का शुभारंभ

8 नवंबर, 2016, री-भोई, मेघालय

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री सुदर्शन भगत द्वारा 8 नवंबर, 2016 को उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप - अनुसंधान परिसर, उमियम में ‘फार्मर्स फर्स्ट’ योजना का शुभारंभ किया गया। यह योजना री- भोई जिले के मारनगर और श्रीकुचि गांवों में लागू की जाएगी।

Farmers’ First Programme launched by Union Minister of State for Agriculture and Farmers Welfare at ICAR RC for NEH Region Farmers’ First Programme launched by Union Minister of State for Agriculture and Farmers Welfare at ICAR RC for NEH Region

इस अवसर पर श्री भगत ने अपने संबोधन में ‘फार्मर्स फर्स्ट’ योजना की पहल की प्रशंसा की और यह आशा व्यक्त की कि जिले के किसानों और वैज्ञानिकों के बीच संवाद के परिणामस्वरूप किसानों को काफी लाभ प्राप्त होगा।

श्री भगत द्वारा मेघा हल्दी -1 किस्म के बीज को बढ़ावा देने के उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप - अनुसंधान केन्द्र, उमियम और री-भोई व मिहन्गी, बहुउद्देश्यीय सहकारी समिति लिमिटेड के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कार्यक्रम की अध्यक्षता की गई।

इस अवसर पर मंत्री महोदय द्वारा री-भोई, मेघालय के किसानों को उन्नत बीज, मछली स्टॉक और शूकर शिशु वितरित किया गया।

डॉ. एस.वी. नचान, निदेशक, उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप - अनुसंधान परिसर, उमियम ने संस्थान की हाल की उपलब्धियों और गतिविधियों के बारे में जानकारी दी।

डॉ. बी.सी. डेका, निदेशक, अटारी, क्षेत्र – 3 ने किसानों की आय को दोगुना करने के लिए आईसीएआर- अटारी द्वारा जारी प्रमुख कार्यक्रमों पर एक संक्षिप्त प्रस्तुति दी।

कार्यक्रम के दौरान गणमान्यों द्वारा उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप - अनुसंधान परिसर, उमियम की मुर्रा भैंस पालन प्रणाली, शूकर पालन फार्म और मांस प्रसंस्करण इकाइयों का दौरा किया गया।

(स्रोत: उत्तर-पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र के लिए भाकृअनुप - अनुसंधान परिसर, उमियम)