खाद्य तेल के रूप में बिनौला को बढ़ावा देने की जरूरत: श्री रूपाला

24 अक्टूबर 2016, मुंबई

श्री पुरूषोत्तम रूपाला, राज्य कृषि एवं किसान कल्याण तथा पंचायती राज्य मंत्री द्वारा भाकृअनुप - केन्द्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान, मुंबई का दौरा किया गया।

Need to promote  use of Cotton seed oil as edible oil, says Shri RupalaNeed to promote  use of Cotton seed oil as edible oil, says Shri Rupala

मंत्री महोदय ने अपने संबोधन में किसानों एवं हितधारकों के लिए प्रयोगशाला से खेत तक प्रौद्योगिकियों के हस्तांतरण पर बल दिया। उन्होंने वर्तमान में आयातित खाद्य तेलों के स्थान पर बिनौला तेल के उपयोग को बढ़ावा देने की आवश्यकता पर जोर दिया। मंत्री महोदय ने सिरकोट, मुंबई में नैनोसेलुलोज पायलट प्लांट सुविधा स्थापना की प्रशंसा की और उत्पाद विकास के माध्यम से इस सुविधा का लाभ उठाने की आवश्यकता पर भी बल दिया।
श्री रूपाला ने संस्थान की प्रयोगशालाओं, नैनोसेलुलोज पायलट प्लांट और प्रदर्शनी व आगंतुक कक्ष का अवलोकन किया।

डॉ. पी.जी. पाटिल, निदेशक ने संस्थान की अनुसंधान गतिविधियों और उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी।

श्री सुरेश कोटक, अध्यक्ष, भारतीय कपास विकास सोसाइटी व अध्यक्ष, कोटक फाउन्डेशन ने अपने संबोधन में मानव निर्मित रेशों से उत्पन्न खतरों से निपटने के लिए कपास आधारित अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा देने के महत्व के बारे में बताया।

(स्रोतः भाकृअनुप – केन्द्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान, मुंबई)