कुक्कुट स्वास्थ्य और कल्याण पर सम्मेलन और राष्ट्रीय संगोष्ठी

भाकृअनुप – राष्ट्रीय तटीय कृषि अनुसंधान संस्थान, ईला, ओल्ड गोवा, गोवा द्वारा एसोसिएशन ऑफ एवियन स्वास्थ्य प्रोफेशनल्स (एएपीएचपी) के सहयोग से कुक्कुट स्वास्थ्य एवं कल्याण विषय पर दो दिवसीय (20-21 अक्टूबर, 2016) राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन आईसीएआर – सीसीएआरआई, ओल्ड गोवा में किया गया।

Convention and National Symposium on Poultry Health and WelfareConvention and National Symposium on Poultry Health and WelfareConvention and National Symposium on Poultry Health and Welfare

श्री फ्रांसिस डि’सूजा, उपमुख्यमंत्री, गोवा द्वारा राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन किया गया। उन्होंने अपने संबोधन में गोवा में कृषि, पशुपालन और ग्रामीण आंगन कुक्कुट पालन क्षेत्र की संभावनाओं का उल्लेख किया। उन्होंने कुक्कुट पालन उद्योग से जुड़े हुए लोगों के बीच कुक्कुट स्वास्थ्य और कल्याण से संबंधित विचारों और सूचनाओं के आदान प्रदान पर जोर दिया। इसके साथ ही उन्होने कहा कि कुक्कुट पालन के क्षेत्र में बीमारियों से बचाव में शोधकर्ता निश्चित रूप से सहायक होंगे।

डॉ. एकनाथ बी. चाकुरकर, निदेशक, भाकृअनुप – सीसीएआरआई ने स्वागत भाषण दिया।

दो प्रख्यात वैज्ञानिकों डॉ. आर.एन.एस. गौड़ा और डॉ. जे.एम. कटारिया को कुक्कुट पालन क्षेत्र में टीकों और निदान में महत्वपूर्ण योगदान के लिए एएएचपी लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया।

विभिन्न अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय वक्ताओं ने नई वैक्सीन और निदान विज्ञान, उभरने वाली बीमारियों, पोषण, अजैविक प्रतिरोधिता, खाद्य सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन से कुक्कुट पालन के क्षेत्र में पड़ने वाले प्रभावों पर शोध पत्रों, मौखिक तथा पोस्टर के माध्यम से प्रस्तुति दी। प्रोफेसर ग्लेन ब्राउनिंग, मेलबर्न यूनिवर्सिटी, ऑस्ट्रेलिया, डॉ. मार्सेलो पनिआगो, निदेशक, ग्लोबल प्रोग्राम वेटेनरी सर्विसेज, केवा सेंटे एनिमल, फ्रांस, डॉ. जोस-मारिया हेरनान्डेज जिमेनो, ग्लोबल प्रोग्राम मैनेजर, डीएसएम, स्विट्जरलैंड और डॉ. मिशेल बब्लॉट, मेरियल, स्विट्जरलैंड ने कुक्कुट स्वास्थ्य और कल्याण के विभिन्न पहलुओं पर शोध-पत्र प्रस्तुत किए।

भाकृअनुप संस्थानों, नाबार्ड, पशुपालन विभाग एवं कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

कार्यक्रम में कुक्कुट उत्पादन, स्वास्थ्य, कल्याण और खाद्य उत्पादक पशुओं में एंटीबायोटिक प्रयोग से संबंधित मुद्दों को सुलझाने के लिए वैज्ञानिक- उद्योग संवाद संत्र का आयोजन किया गया।

(स्रोतः भाकृअनुप – केन्द्रीय तटीय कृषि अनुसंधान संस्थान, ईला, ओल्ड गोवा, गोवा)