श्री राधा मोहन सिंह द्वारा आरसीएआर डाटा सेंटर का उद्घाटन व केवीके एप जारी

21 दिसंबर, 2016, नई दिल्ली

भाकृअनुप- भारतीय कृषि सांख्यिकी अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली द्वारा आयोजित कार्यक्रम में केन्द्रीय किसान मंत्री श्री राधा मोहन द्वारा आईसीएआर डेटा सेंटर का उद्घाटन तथा केवीके मोबाइल एप को जारी किया गया।

श्री राधा मोहन सिंह द्वारा आरसीएआर डाटा सेंटर का उद्घाटन व केवीके एप जारी   श्री राधा मोहन सिंह द्वारा आरसीएआर डाटा सेंटर का उद्घाटन व केवीके एप जारी   श्री राधा मोहन सिंह द्वारा आरसीएआर डाटा सेंटर का उद्घाटन व केवीके एप जारी

इस अवसर पर मंत्री महोदय ने अपने संबोधन में कहा कि भारत सरकार द्वारा देश को सशक्त बनाने के लिए डिजिटल इंडिया अभियान चलाया जा रहा है जिसका लक्ष्य कागजी प्रयोग को घटाकर इलेक्ट्रानिक गतिविधियों को बढ़ावा देना है। इससे सभी क्षेत्रों में प्रभावशीलता, कार्यकुशलता तथा सबसे महत्वपूर्ण पारदर्शिता आएगी तथा समय व मानवश्रम की भी बचत होगी। उन्होंने कहा कि डिजटलीकरण के तहत ग्रामीण समुदाय को जोड़ना सबसे महत्वपूर्ण है जिसमें डिजिटल साक्षरता जैसे आवश्यक तत्व भी शामिल हैं। श्री सिंह ने कहा कि यह डेटा सेंटर डिजिटल इंडिया की दिशा में एक आवश्यक कदम है।

डॉ. आर.बी. सिंह, कुलाधिपति, इंफाल केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में प्रौद्योगिकियों की सेवाओं से किसानों का हित जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की पहल से कृषि क्षेत्र को अधिक मजबूती मिलेगी।

डॉ. के. अलगूसुंदरम, उपमहानिदेशक (कृषि अभियांत्रिकी), भाकृअनुप ने अपने संबोधन में इस पहल की सराहना की।

डॉ. ए.के. सिंह, उपमहानिदेशक (कृषि विस्तार), भाकृअनुप ने अपने संबोधन में कहा कि इस एप के माध्यम से दूरदराज के किसानों की जोड़ने की सार्थक पहल की गयी है।

केवीके मोबाइल एप

राष्ट्रीय स्तर पर जारी इस केवीके पोर्टल को केवीके मोबाइल एप से जोड़ा गया है। इस प्रकार पोर्टल की जानकारियों को एप पर भी देखा जा सकता है। इस एप के माध्यम से किसान व हितधारक बीज उत्पादन व यंत्रों की उपलब्धता आदि से जुड़ी सूचनाएं प्राप्त कर सकते हैं। इसमें फसल और पशुपालन पर अलग से जानकारी दी गई है जिसके माध्यम से मुर्गी, मछली व शूकर आदि पालन के साथ ही जिले के लिए प्रासंगिक प्रौद्योगिकियों की भी जानकारियां दी गई हैं। इस एप पर सवाल व सुझाव के लिए भी स्थान दिया गया है जिसके तहत विभिन्न कृषि संबंधित प्रश्नों के उत्तर, समस्याओं के समाधान, प्रशिक्षण कार्यक्रम, कार्यक्रम की विषय वस्तु से जुड़ी सूचनाएं उपलब्ध होगी। इसके साथ ही जिला आधारित मौसम सूचना तथा बाजार भाव की जानकारी भी प्रदान की जाएंगी।

(स्रोतः हिन्दी सम्पादकीय एकक, भाकृअनुप – डीकेएमए)