डॉ. त्रिलोचन महापात्र बने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के नए मुखिया

Dr. Trilochan Mohapatra 22 फरवरी, 2016, नई दिल्‍ली

आज डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने डॉ. एस. अय्यप्‍पन से सचिव, कृषि अनुसंधान व‍ शिक्षा विभाग एवं महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का कार्यभार ग्रहण कर लिया।

डॉ. महापात्र,  प्रतिष्ठित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्‍थान, पूसा, नई दिल्‍ली के निदेशक व कुलपति के पद पर कार्यरत थे। इससे पहले वह राष्‍ट्रीय चावल अनुसंधान संस्‍थान (पूर्व में सीआरआरआई), कटक में निदेशक के रूप में कार्य कर चुके हैं। डॉ. महापात्र ने लगभग 20 वर्षों तक एक अनुसंधानकर्मी तथा शिक्षक के रूप में राष्‍ट्रीय पादप जैव प्रौद्योगिकी अनुसंधान केन्‍द्र, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्‍थान, नई दिल्‍ली में सेवा की है। डॉ. महापात्र आणविक आनुवंशिकी तथा जीनोमिक्‍स के क्षेत्र में विश्‍व स्‍तर पर एक प्रतिष्ठित वैज्ञानिक हैं।

प्रतिष्ठित राष्‍ट्रीय एवं अंतर्राष्‍ट्रीय पत्रिकाओं में डॉ. महापात्र के 145 से भी अधिक अनुसंधान पेपर और अनेक पुस्‍तक अध्‍याय प्रकाशित हो चुके हैं। इनकी अनुसंधान उपलब्धियों में आणविक मार्कर सहायतार्थ चयन के माध्‍यम से जीवाण्विक पत्‍ती अंगमारी की प्रतिरोधी पहली उच्‍च उपजशील बासमती चावल किस्‍म का विकास, और चावल तथा टमाटर का भौतिक मानचित्रण तथा जीनोम अनुक्रमण करना शामिल है।

डॉ. महापात्र, इंडियन नेशनल साइन्‍स अकादमी; नेशनल अकादमी ऑफ साइन्सिज-इंडिया, इलाहाबाद और राष्‍ट्रीय कृषि विज्ञान संकाय, नई दिल्‍ली के फेलो हैं।