कृषि विश्‍वविद्यालयों के कुलपतियों और भाकृअनुप संस्‍थानों के निदेशकों का सम्‍मेलन

22-24 जनवरी, 2016, नई दिल्‍ली

कृषि विश्‍वविद्यालयों के कुलपतियों और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के संस्‍थानों के निदेशकों का वार्षिक सम्‍मेलन दिनांक 22 – 24 जनवरी, 2016 को एनएएससी परिसर, नई दिल्‍ली में आयोजित किया गया।

श्री राधा मोहन सिंह, माननीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री समारोह के मुख्‍य अतिथि थे। माननीय मंत्री महोदय ने अपने उद्घाटन सम्‍बोधन में कहा कि नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस हमारे पास विचारों, आदर्शों और सपनों की एक विरासत छोड़ गए हैं और इस विरासत में सबसे मूल्‍यवान वस्‍तु मत भिन्‍नता का आदर करते हुए एकता हासिल करने की दिशा में उनका विनम्र और कल्‍पनात्‍मक दृष्टिकोण है। मुख्‍य अतिथि ने उर्वरकों के अंधाधुंध इस्‍तेमाल को रोकने के लिए मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड के वितरण का महत्‍व बताया और कहा कि ‘मेरा गांव मेरा गौरव’ कार्यक्रम के प्रभाव का अध्‍ययन करने के लिए इसकी प्रगति की निगरानी की जानी  चाहिए।

Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes
Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes
Annual Conference of Vice-Chancellors of Agricultural Universities and Directors of ICAR Institutes

डॉ. एस. अय्यप्‍पन, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भाकृअनुप ने राष्‍ट्रीय कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा प्रणाली (NARES)  की उपलब्धियों की झलक प्रस्‍तुत की और सूचित किया कि अंतर्राष्‍ट्रीय मृदा वर्ष 2015 के दौरान कृषि विज्ञान केन्‍द्रों द्वारा मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड वितरित किए गए, किसान चैनल की शुरूआत की गई और राष्‍ट्रीय कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा प्रणाली (NARES) द्वारा 93 जलवायु अनुकूल किस्‍में विकसित की गईं।

डॉ. एस.के. सिंह, अपर सचिव एवं वित्‍त सलाहकार, डेयर; श्री सी. राउल, अपर सचिव, डेयर एवं सचिव, भाकृअनुप; तथा डॉ. एन.एस. राठौर, उपमहानिदेशक (कृषि शिक्षा), भाकृअनुप भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
अतिथिगणों ने महान नेता, नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस को उनकी 119वीं जयंती पर पुष्‍प अर्पित करके श्रद्धांजलि दी।

तीन विश्‍वविद्यालयों यथा कृषि विज्ञान विश्‍वविद्यालय, धारवाड़; कृषि विज्ञान विश्‍वविद्यालय, बेंगलुरू; ओडि़शा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय, भुबनेश्‍वर को अखिल भारतीय स्‍तर पर जेआरएफ परीक्षा के आयोजन में उत्‍कृष्‍टता हासिल करने के लिए क्रमश: पहला, दूसरा और तीसरा पुरस्‍कार प्रदान किया गया। बड़ी तथा छोटी श्रेणी के परिषद संस्‍थानों में सर्वश्रेष्‍ठ वार्षिक रिपोर्ट पुरस्‍कार 2014-15 क्रमश: भाकृअनुप – केन्‍द्रीय समुद्रीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान, केरल और भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय कृषि आर्थिकी एवं नीति अनुसंधान संस्‍थान, नई दिल्‍ली को दिया गया। श्री नीलम दत्‍ता, बिश्‍वनाथ चराली, सोनितपुर, असोम के एक प्रगतिशील और नवोन्‍मेषी किसान को हलधर जैविक कृषक पुरस्‍कार 2014 प्रदान किया गया। माननीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री द्वारा अनेक सीडी और पुस्‍तकें भी जारी की गईं।

वार्षिक कुलपति सम्‍मेलन, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के शिक्षा प्रभाग द्वारा लागू किए गए विभिन्‍न कार्यक्रमों की समीक्षा करने, उनमें सुधार करने और उन्‍हें मजबूती प्रदान करने का एक मंच है।

(स्रोत : शिक्षा प्रभाग, भाकृअनुप )