'किसानों के लिए वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन' पर आभासी प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

27 अप्रैल, 2021, पुणे

Virtual Training Programme on "Scientific Beekeeping for the Farmers" organized

कृषि विज्ञान केंद्र, नारायणगाँव, पुणे - II, महाराष्ट्र ने 27 से 29 अप्रैल, 2021 तक 'किसानों के लिए वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन' पर तीन दिवसीय आभासी प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया। यह कार्यक्रम राष्ट्रीय मधुमक्खी पालन एवं हनी मिशन (NBHM) मिनी मिशन-I के सहयोग से आयोजित किया गया था।

डॉ. लाखन सिंह, निदेशक, भाकृअनुप-कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान, पुणे, महाराष्ट्र ने अपने उद्घाटन संबोधन में किसानों से नियमित आधार पर अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए मधुमक्खी पालन को खेती का अभिन्न अंग बनाने का आग्रह किया। उन्होंने ग्रामीण युवाओं को भी आगे आकर मधुमक्खी पालन उद्यमी बनने के लिए प्रोत्साहित किया। डॉ. सिंह ने नियमित वैज्ञानिक अभिविन्यास पर जोर दिया जो योग्य ग्रामीण युवाओं के लिए आवश्यक है।

डॉ. दत्तात्रेय बी. गावड़े, एसएमएस, प्लांट प्रोटेक्शन, केवीके, नारायणगाँव, पुणे-II, महाराष्ट्र ने क्षमता निर्माण पर ध्यान देकर देश में मीठी क्रांति के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मिशन मोड में वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन के समग्र संवर्धन एवं विकास के लिए प्रशिक्षण पाठ्यक्रम और राष्ट्रीय मधुमक्खी पालन एवं हनी मिशन (NBHM) की भूमिका के बारे में जानकारी दी।

कार्यक्रम का उद्देश्य किसानों को वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन के बारे में उन्मुख करना और उन्हें सशक्त बनाना था।

प्रशिक्षण कार्यक्रम में लगभग 100 से अधिक किसान और ग्रामीण युवक शामिल हुए।

(स्त्रोत: भाकृअनुप-कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान, पुणे, महाराष्ट्र)