किसान संगोष्ठी का हुआ आयोजन

12 मार्च, 2021, मिर्जापुर

भाकृअनुप-प्याज एवं लहसुन अनुसंधान निदेशालय, पुणे, महाराष्ट्र ने जी. के. अनुसंधान एवं विकास संस्थान, वाराणसी और एग्रीमित्र किसान उत्पादक कंपनी, मिर्जापुर के साथ मिलकर आज पुरुषोत्तमपुर, नारायणपुर ब्लॉक, मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश में एक ‘किसान संगोष्ठी’ का आयोजन किया।

मुख्य अतिथि, डॉ. गौतम कल्लू, पूर्व उप महानिदेशक (बागवानी विज्ञान), भाकृअनुप और पूर्व कुलपति, जेएनकेवीवी, जबलपुर, मध्य प्रदेश ने देश में प्याज एवं लहसुन के विकास और प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण में भाकृअनुप-डीओजीआर के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने भंडारण क्षमता के विकास पर अधिक ध्यान देने और फसल के बाद के नुकसान को कम करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि प्याज की कीमतों में स्थिरता और किसानों की आय को दोगुना करना बड़ी चुनौती है, लेकिन ऐसा तब होगा जब किसान खरीफ प्याज की व्यावसायिक खेती को अपनाएंगे।

Kisan Sangoshthi organized  Kisan Sangoshthi organized

विशिष्ट अतिथि, डॉ. मेजर सिंह, निदेशक, भाकृअनुप-डीओजीआर, पुणे, महाराष्ट्र ने खरीफ प्याज की खेती के लिए क्षेत्र की अपार संभावनाओं को रेखांकित किया।

श्री लाल बहादुर सिंह, निदेशक, एग्रीमित्र किसान उत्पादक कंपनी ने प्याज में मूल्य संकट को कम करने के लिए नीतिगत ढांचे पर अधिक ध्यान देने पर जोर दिया।

इस कार्यक्रम में भाकृअनुप-संस्थानों के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।

Kisan Sangoshthi organized  Kisan Sangoshthi organized

कार्यक्रम में मिर्जापुर, वाराणसी, सोनभद्र, आजमगढ़, बलिया और विंध्याचल के विभिन्न हिस्सों से 212 महिला किसानों सहित कुल 355 प्रगतिशील किसान शामिल हुए।

(स्त्रोत: भाकृअनुप-प्याज एवं लहसुन अनुसंधान निदेशालय, पुणे, महाराष्ट्र)