कृषि अनुसंधान और शिक्षा में सहयोग के लिए भा.कृ.अनु.प. ने किया मैनेज के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

24 जून, 2019, नई दिल्ली

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (भा.कृ.अनु.प.), नई दिल्ली ने आज कृषि भवन, नई दिल्ली में राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंध संस्थान (मैनेज), राजेंद्रनगर, हैदराबाद के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया।

समझौता ज्ञापन कृषि अनुसंधान और शिक्षा के विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के लिए है।

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, महानिदेशक (भा.कृ.अनु.प.) एवं सचिव (कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग) और डॉ. वी. उषा रानी, ​​महानिदेशक, मैनेज ने ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

समझौता ज्ञापन के साथ, भा.कृ.अनु.प. और मैनेज अनुसंधान, शिक्षा, प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण, विस्तार परामर्श और राष्ट्रीय हित के कृषि विज्ञान के अन्य क्षेत्रों में सहयोगी कार्यक्रमों के लिए सहमत हुए हैं। भा.कृ.अनु.प. और मैनेज ने अनुसंधान और शिक्षण उद्देश्यों के लिए दोनों संस्थानों के संकाय को पारस्परिक रूप से मान्यता देने के लिए भी सहमति व्यक्त की है, जिसमें छात्र और संकाय इन संस्थानों की प्रयोगशालाओं में विशिष्ट अनुसंधान और आगे की गतिविधियों को अंजाम दे सकते हैं।

डॉ. महापात्र और डॉ. उषा रानी ने इस अवसर पर बोलते हुए विश्वास व्यक्त किया कि समझौता ज्ञापन दोनों संगठनों को वर्ष – 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के चुनौतीपूर्ण कार्य को पूरा करने में मदद करेगा।

 

 

समझौता ज्ञापन शुरू में पाँच साल की अवधि के लिए वैध होगा। डॉ. ए. के. सिंह, उप महानिदेशक (विस्तार) को कार्य योजना विकसित करने और मैनेज के साथ समन्वय के लिए भा.कृ.अनु.प. के नोडल अधिकारी के रूप में जिम्मेदारी दी गई। इस बात पर भी सहमति हुई कि समझौता ज्ञापन के तहत संयुक्त रूप से विकसित प्रौद्योगिकियों/कार्यप्रणालियों का देश के भीतर और बाहर व्यावसायीकरण करने के लिए को एग्रीनोवेट इंडिया लिमिटेड शामिल हो सकता है।

 

 

श्री सुशील कुमार, अतिरिक्त सचिव (कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग) एवं सचिव (भा.कृ.अनु.प.); डॉ. ए. के. सिंह, उप महानिदेशक (फसल और बागवानी विज्ञान); डॉ. जे. के. जेना, उप महानिदेशक (मत्स्य और पशु विज्ञान); डॉ. एस. पी. किमोठी, अतिरिक्त महानिदेशक (समन्वय) और दोनों संगठनों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने इस अवसर पर आभार व्यक्त किया।

(स्त्रोत: कृषि भवन, नई दिल्ली)