डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने किया भारतीय कृषि सांख्यिकी समिति के 72 वें सम्मेलन का उद्घाटन

13 दिसंबर, 2018. भोपाल

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, महानिदेशक (भा.कृ.अनु.प.) एवं सचिव (कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग) ने आज भा.कृ.अनु.प.-केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल में भारतीय कृषि सांख्यिकी समिति के 72वें सम्मेलन का उद्घाटन किया।

सम्मेलन का विषय 'सांख्यिकी, सूचना विज्ञान, अभियांत्रिकी हस्तक्षेप और व्यापार के अवसर: समृद्धि की दिशा में भारतीय कृषि को बदलने के लिए दिशा-निर्देश' था।

Dr. Trilochan Mohapatra Inaugurated 72nd Conference of  Indian Society of Agricultural Statistics Dr. Trilochan Mohapatra Inaugurates 72nd Conference of  Indian Society of Agricultural Statistics

उन्होंने वर्तमान दिनों में खुद को प्रासंगिक रखने के लिए समिति के क्रमिक विकास की सराहना की और सांख्यिकी के मूलभूत सिद्धांतों पर ध्यान देने के लिए सम्मेलन के प्रतिनिधियों से मुलाकात की ताकि इसे प्रभावी ढंग से स्कूल स्तर पर पाठ्यक्रम में शामिल किया जा सके और नवाचार को बढ़ावा दिया जा सके। उन्होंने वार्षिक सम्मेलन के अलावा यह भी सलाह दी कि, समिति कृषि और संबद्ध क्षेत्र के विभिन्न विषय विशेषज्ञों के साथ विषयगत बातचीत के लिए संपर्क करें और अन्य संगठनों के सांख्यिकीविद को भी शामिल करें जो विशिष्ट हितधारकों के लिए उचित समाधान प्रदान करने में मदद करेंगे।

डॉ. नरेन्द्र सिंह राठौड़, उप महानिदेशक (शिक्षा), ने आधुनिक प्रौद्योगिकियों और प्रौद्योगिकी विकास प्रक्रिया में आँकड़ों से संबंधित महत्त्व पर बल दिया। सम्मेलन के दौरान उन्होंने आग्रह किया कि, प्रतिनिधियों को भविष्य के प्रयासों और विज्ञान के सीमावर्ती क्षेत्रों में उनके संभावित हस्तक्षेप के लिए योजना बनाने में कुछ समय देना चाहिए।

डॉ. के. के. सिंह, निदेशक, भा.कृ.अनु.प.-केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल ने स्वागत भाषण के दौरान कृषि मशीनीकरण, फसल कटाई के बाद की प्रक्रिया और नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्रों में डेटा, इसके संग्रहण, प्रसंस्करण, भंडारण और प्रसारण की जीवन शक्ति को चित्रित किया। उन्होंने कृषि अभियांत्रिकी के सभी नए सीमाओं मसलन, कीमती व सटीक खेती, इकाई संचालन का स्वचालन, रोबोटिक्स, मशीन लर्निंग, कृत्रिम बुद्धि, इंटरनेट, स्वायत्त फार्म वाहन, स्मार्ट पैकेजिंग, कृषि मशीनरी, सिंचाई और भंडारण प्रबंधन आदि के लिए मोबाइल आधारित अनुप्रयोग आदि तथ्यों पर भी जोर दिया।

इसके पहले, डॉ. एल. एम. भर, निदेशक, भा.कृ.अनु.प.-भारतीय कृषि सांख्यिकी अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली ने सभी प्रतिनिधियों और मेहमानों का स्वागत किया और भारतीय कृषि सांख्यिकी समिति की गतिविधियों पर एक रिपोर्ट प्रस्तुत की।

उद्घाटन कार्यक्रम में लगभग 300 प्रतिनिधियों, वैज्ञानिकों और मेहमानों ने भाग लिया था।

स्रोत: (भा.कृ.अनु.प.-केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल)