निदेशक, दलहन विकास निदेशालय, भोपाल ने भाकृअनुप-आईआईएसआर, इंदौर का किया दौरा

15 जुलाई, 2021, इंदौर

डॉ. ए. के. तिवारी, निदेशक, दलहन विकास निदेशालय, भोपाल, मध्य प्रदेश के साथ श्री एस. एस. राजपूत, उप निदेशक कृषि, इंदौर जिला, मध्य प्रदेश और टीम ने आज भाकृअनुप-भारतीय सोयाबीन अनुसंधान संस्थान, इंदौर, मध्य प्रदेश का दौरा किया।  

डॉ. तिवारी ने मौसम की अनियमित स्थिति के कारण किसानों को होने वाली समस्याओं पर अपनी चिंता व्यक्त की। संस्थान के प्रायोगिक फार्म में प्रदर्शन क्षेत्र की यात्रा के दौरान डॉ. तिवारी ने कहा कि सोयाबीन की फसल संस्थान और इसके अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजनाओं के साथ अन्य राज्यों में सोयाबीन के बढ़ते क्षेत्र के कारण देश के तिलहन उत्पादन में ‘आत्मनिर्भर’ योगदान जारी रखेगी।

Director, Directorate of Pulse Development, Bhopal visits ICAR-IISR, Indore

डॉ. नीता खांडेकर, निदेशक, भाकृअनुप-आईआईएसआर, इंदौर ने संस्थान की उपलब्धियों और विशेष रूप से जलवायु परिस्थितियों के प्रभावों को कम करने के लिए उपयुक्त जलवायु अनुकूल किस्मों और पद्धतियों/विधियों के विकास के बारे में किए जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला। डॉ. नीता ने नवंबर - 2020 और मार्च - 2021 के दौरान सोयाबीन की 15 किस्मों की हालिया रिलीज और अधिसूचना को भी रेखांकित किया जो विभिन्न जलवायु क्षेत्रों के लिए उपयुक्त हैं। इनमें से 8 किस्मों की अनुशंसा मध्य प्रदेश के लिए की गई है।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय सोयाबीन अनुसंधान संस्थान, इंदौर, मध्य प्रदेश)