भाकृअनुप-राष्ट्रीय अजैविक स्ट्रैस प्रबंधन संस्थान ने अनुसंधान और अकादमिक गतिविधियों के लिए राज्य कृषि विश्वविद्यालय, परभणी के साथ किया समझौता ज्ञापन

17 जनवरी, 2020, परभणी, महाराष्ट्र

भाकृअनुप-राष्ट्रीय अजैविक स्ट्रैस प्रबंधन संस्थान, बारामती, पुणे ने वसंतराव नायक मराठवाड़ा कृषि विद्यापीठ, परभणी, महाराष्ट्र के साथ आज एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया।

डॉ. जगदीश राणे, निदेशक, भाकृअनुप-एनआईएएसएम और डॉ. डी. पी. वास्कर, अनुसंधान निदेशक, वीएनएमकेवी, परभणी ने अपने संबंधित संगठनों की ओर से समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया।

ICAR-NIASM inks MoU with State Agriculture University, Parbhani for research and academic activities

डॉ. वास्कर ने सहयोग के अवसरों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वीएनएमकेवी में उत्पन्न अनुभव और प्रजनन सामग्री फसल संयंत्रों में अजैविक तनाव सहिष्णुता के क्षेत्र में भाकृअनुप-एनआईएएसएम के पूरक अनुसंधान प्रयासों में बेहद उपयोगी हो सकती है।

डॉ. ए. एस. धवन, कुलपति, वीएनएमकेवी, परभणी, महाराष्ट्र ने अजैविक तनावों के प्रति सहिष्णुता के माध्यम से फसल उत्पादकता की स्थिरता बढ़ाने के लिए सहयोग का आग्रह किया।

समझौता ज्ञापन का मुख्य उद्देश्य भाकृअनुप-एनआईएएसएम में अनुसंधान और अत्याधुनिक सुविधाओं का बेहतरीन उपयोग करने के लिए वीएनएमकेवी, परभणी के वैज्ञानिकों और स्नातकोत्तर छात्रों को अवसर प्रदान करना है, ताकि वे अलग-अलग विषयों को शामिल करते हुए अजैविक तनावों से ग्रस्त क्षेत्रों के लिए शमन और अनुकूलन विकल्पों का सबसे अच्छा संयोजन उपलब्ध करा सकें।

समझौता ज्ञापन के अनुसार, भाकृअनुप-एनआईएएसएम के वैज्ञानिक स्नातकोत्तर और पीएचडी छात्रों को अजैविक तनाव विज्ञान में प्रगति के साथ अद्यतन करने के उद्देश्य से अकादमिक गतिविधियों में भी भाग लेंगे।

(स्रोत: भाकृअनुप-राष्ट्रीय अजैविक स्ट्रैस प्रबंधन संस्थान, बारामती, पुणे, महाराष्ट्र)