‘दक्षिण एशिया में सतत फसल उत्पादन के लिए उन्नत जल प्रबंधन विकल्प’ पर सार्क कृषि परिषद की क्षेत्रीय परामर्श बैठक का हुआ आयोजन

5-6 अप्रैल, 2021

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) कृषि परिषद (एसएसी), ढाका द्वारा 5 से 6 अप्रैल, 2021 तक ‘दक्षिण एशिया में सतत फसल उत्पादन के लिए उन्नत जल प्रबंधन विकल्पों’ पर एक आभासी क्षेत्रीय परामर्श बैठक का आयोजन किया गया। भाकृअनुप-भारतीय जल प्रबंधन संस्थान, भुवनेश्वर, ओडिशा ने बैठक के तकनीकी भागीदार के रूप में कार्य किया।

उद्घाटन सत्र के विशिष्ट अतिथि, डॉ. सुरेश कुमार चौधरी, उप महानिदेशक (प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन), भाकृअनुप ने ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन और पानी एवं ऊर्जा पदचिह्नों को कम करने के लिए नहर स्वचालन, सतह और भूजल के संयोजन के उपयोग, पानी की कमी वाले क्षेत्रों में फसल विविधीकरण, इंटरनेट ऑफ थिंग्स आधारित सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली और विकसित तकनीकों पर अनुसंधान प्रयासों को मजबूत करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

Regional Consultation Meeting of SAARC Agriculture Council on “Advanced Water Management Options for Sustainable Crop Production in South Asia” organized  Regional Consultation Meeting of SAARC Agriculture Council on “Advanced Water Management Options for Sustainable Crop Production in South Asia” organized

इससे पहले डॉ. एमडी बख्तियार हुसैन, निदेशक, एसएसी और डॉ. श्रीकांत अतलुरी, वरिष्ठ कार्यक्रम विशेषज्ञ (फसल) और समन्वयक, एसएसी ने स्वागत संबोधन दिया।

भाकृअनुप द्वारा डॉ. ए. मिश्रा, निदेशक, भाकृअनुप-आईआईडब्ल्यूएम और डॉ। पी. एस. ब्रह्मानंद, प्रधान वैज्ञानिक, भाकृअनुप-आईआईडब्ल्यूएम को बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए विशेषज्ञ के तौर पर नामित किया गया।

भारत, बांग्लादेश, भूटान, पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल और अफगानिस्तान जैसे सार्क के 7 सदस्य देशों के लगभग 14 विशेषज्ञों ने बैठक में भाग लिया।

(स्त्रोत: भाकृअनुप-भारतीय जल प्रबंधन संस्थान, भुवनेश्वर, ओडिशा)