कृषि में ई-संसाधनों के लिए संघ

कृषि में ई-संसाधनों के लिए संघ (जो लोकप्रिय रुप से सीइआरए के नाम से जाना जाता है ) कृषि पुस्तकालयों का एक संघ है जो भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान एवं शिक्षण संस्थान (एनआरएइ ) पुस्तकालयों के अन्तर्गत आता है। कृषि में ई-संसाधनों के संघ (सीईआरए) से संबंधित इस प्रकार का पहला संस्थान है जिसकी स्थापना नवंबर, 2007 में की गई थी और इसके 24 घंटे कृषि से संबंदित जनरल एवं इससे जुड़े विज्ञान विषयों की पहुंच एनआरएइ के अन्तर्गत शोधकर्ताओं, शिक्षकों, छात्रों, नीति निर्माताओं, प्रशासकों एवं बाह्य विशेषज्ञों को उनके आईपी प्रमाणीकरन के माध्यम से उपलब्ध है।

संघ के 152 सदस्यों में भाकृअनुप संस्थान/एनआरसी/निदेशालय/परियोजना निदेशालय/राष्ट्रीय ब्यूरो आदि और राज्य कृषि विश्वविद्यालय शामिल हैं। सीईआरए अब ऑनलाइन होने के बाद वैज्ञानिकों / शिक्षकों द्वारा साहित्यिक जरुरत को पूरा करने का एक मंच बन गया है। संक्षेप में कहा जाय तो सीईआरए ने एनएआरएस संस्थान के कृषि अनुसंधान, शिक्षा और विस्तार गतिविधियों को बढ़ाने के साथ साथ समाज के लिए उत्पादन और सेवा में उच्च मानक स्थापित करने का कार्य किया है। एनएआईपी परियोजना के पूरा होने के बाद सीईआरए को जुलाई 2014 से भाकृअनुप-डीकेएमए को सौंपा गया है।

सीईआरए के उद्देश्य

  • विश्व के अग्रणी संस्थानों/संगठनों की तुलना में भाकृअनुप संस्थानों/राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के मौजूदा अनुसंधान एवं विकास सूचना संसाधन आधार को उन्नत करना।
  • ऑनलाइन पत्रिकाओं/ई-संसाधनों की सदस्यता लेना और भाकृअनुप संस्थानों/कृषि विश्वविद्यालयों में वैज्ञानिकों/संकाय के बीच ई-एक्सेस संस्कृति बनाना इनका लक्ष्य है।
  • सीईआरए द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाएं
  • आईपी प्रमाणीकरण के माध्यम से पत्रिकाओं/ई-संसाधनों तक पहुंच
  • दस्तावेज़ वितरण अनुरोध प्रणाली (डीडीआर)
  • रिमोट एक्सेस सुविधा के माध्यम से एक्सेस (ईज़ी - प्रॉक्सी)

 

  • स्प्रिंगर्स मुक्त प्रकाशनों की सूची
  • प्रकाशकों की सूची
  • सीईआरए के अंतर्गत आने वाली पत्रिकाएं
  • सीईआरए के अंतर्गत शामिल ई-पुस्तकें जे-गेट
  • टीम सीईआरए
  • कृषि प्रकाशन और डाटा सूची
  • भाकृअनुप इंटरपोर्टल हार्वेस्टर