महानिदेशक, भाकृअनुप ने मांस विज्ञान के अग्रणी क्षेत्रों में अनुसंधान करने पर बल दिया

25thमार्च, 2016, हैदराबाद

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भाकृअनुप ने आज भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय मांस अनुसंधान केन्‍द्र, हैदराबाद का दौरा किया।

DG, ICAR emphasized on research in the frontier areas of meat science DG, ICAR emphasized on research in the frontier areas of meat science

डॉ. महापात्र ने अपने संबोधन में पशु/मांस विज्ञान के अग्रणी क्षेत्रों यथा मांस जनित प्राणिरूजा रोगों के लिए चिप आधारित नैदानिकी विधियां विकसित करने ; RNA/प्रोटियोम स्‍तर पर रोगग्रस्‍त बनाम स्‍वस्‍थ पशुओं के बीच मांस की गुणवत्‍ता में अंतर करने ; कोलाजन क्रॉस लिंकिंग में संशोधन करने हेतु एंजाइम हस्‍तक्षेप करने  तथा मास की गुणवत्‍ता को बढ़ाने  में अनुसंधान करने की जरूरत पर बल दिया। उन्‍होंने मांस प्रजातियों की पहचान, पेप्‍टाइड बायोमार्करों की पहचान, अपशिष्‍ट विश्‍लेषण, जैविक मांस उत्‍पादन के क्षेत्र में केन्‍द्र द्वारा किए गए अनुसंधान प्रयासों की सराहना की। इन क्षेत्रों की  मांस की सुरक्षा और गुणवत्‍ता को सुनिश्चित करने में महत्‍वपूर्ण भूमिका होती है।

डॉ. महापात्र ने केन्‍द्र की विभिन्‍न प्रयोगशालाओं, परीक्षणात्‍मक वधशाला, मांस प्रसंस्‍करण संयंत्र तथा अन्‍य सुविधाओं का भी दौरा किया। साथ ही उन्‍होंने मांस प्रसंस्‍करण सुविधा का भी दौरा किया और ‘’मांस ऑन व्‍हील्‍स’’ के माध्‍यम से मूल्‍य वर्धन को लोकप्रिय बनाने में संस्‍थान के प्रयासों की सराहना की। उन्‍होंने लघु स्‍तरीय उद्यमियों के माध्‍यम से तथा सफलता गाथाओं को प्रदर्शित करके प्रौद्योगिकियों को लोकप्रिय बनाने का सुझाव दिया।  

इससे पूर्व, डॉ. वी.वी. कुलकर्णी, निदेशक, भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय मांस अनुसंधान केन्‍द्र, हैदराबाद ने संस्‍थान की प्रमुख गतिविधियों पर संक्षिप्‍त जानकारी दी।

(स्रोत : भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय मांस अनुसंधान केन्‍द्र, हैदराबाद)