उत्तर प्रदेश के कृषि / आत्मा अधिकारियों के लिए 'खरपतवार प्रबंधन तकनीकों में प्रगति' पर राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

16-20 अक्तूबर 2012, जबलपुर

उत्तर प्रदेश के कृषि / आत्मा अधिकारियों के लिए 'खरपतवार प्रबंधन तकनीकों में प्रगति' पर राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रमखरपतवार विज्ञान अनुसंधान निदेशालय (डी डबल्यू एस आर) ने 16-20 अक्टूबर, 2012 के दौरान कृषि / आत्मा अधिकारियों, किसानों और उत्तर प्रदेश के गैर-सरकारी संगठनों के लिए खरपतवार प्रबंधन तकनीकों में प्रगति पर एक पांच दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया। उद्घाटन सत्र के दौरान, डॉ. पी.के. सिंह, प्रधान वैज्ञानिक और समन्वयक, ने प्रतिभागियों और अतिथियों का स्वागत करते हुए प्रशिक्षण के उद्देश्य के विषय में जानकारी दी। श्री बी.पी. त्रिपाठी, उद्घाटन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं संयुक्त निदेशक कृषि, मध्य प्रदेश सरकार, ने कुछ प्रमुख फसलों में उपज नुकसान के कारणों को उल्लेखित किया और वर्तमान में कृषि के क्षेत्र में प्रशिक्षण कार्यक्रम की प्रासंगिकता पर संतोष व्यक्त किया। डॉ. ए.पी. श्रीवास्तव, विशेष अतिथि और संयुक्त निदेशक कृषि, उत्तर प्रदेश सरकार ने सलाह दी कि अधिकारियों को तत्काल प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है जिससे वह किसानों को आधुनिक खरपतवार तकनीकों के उपयोग के बारे में दिशा निर्देश दे सकें। डॉ. ए.आर. शर्मा, निदेशक, खरपतवार विज्ञान अनुसंधान निदेशालय, ने बताया कि खरपतवार बड़े पैमाने पर फसल उत्पादन में हानि पहुंचाते हैं। उन्होंने खाद्य सुरक्षा और जैव विविधता के संरक्षण के लिए किसानों को खरपतवार से छुटकारा पाने की सलाह दी है। उन्होंने भारतीय कृषि में खरपतवार प्रबंधन के क्षेत्र में अवसर व चुनौतियों पर विशेष वर्णन दिया।

तकनीकी सत्र में, उन्नत खरपतवार प्रबंधन के सभी पहलुओं को शामिल करते हुए कुल 15 व्याख्यान निदेशालय के वैज्ञानिकों द्वारा दिये गए। कुल पाँच सत्र खरपतवार पहचान के संबंध में आयोजित किए गए जिनमें तकनीक, यांत्रिक निराई उपकरण, जीआईएस / जीपीएस खरपतवार सर्वेक्षण डेटाबेस और खरपतवार पहचान किट के उपयोग, खरपतवार बायोमास और जैव नियंत्रण एजेंटों का उपयोग, खाद बनाना, छिड़काव आदि शामिल हैं। प्रशिक्षुओं को अपनाए गए गांवों में अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन साइटों का दौरा कराने के लिए किसानों के खेत में बेहतर खरपतवार प्रबंधन तकनीक के प्रदर्शन को दिखाने के लिए ले जाया गया।

उत्तर प्रदेश के कृषि / आत्मा अधिकारियों के लिए 'खरपतवार प्रबंधन तकनीकों में प्रगति' पर राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रमउत्तर प्रदेश के कृषि / आत्मा अधिकारियों के लिए 'खरपतवार प्रबंधन तकनीकों में प्रगति' पर राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

डॉ. आर.पी. सिंह, पूर्व निदेशक, पीडीएफएसआर, और महासचिव, आईएयूए, ने पाँच दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन समारोह की अध्यक्षता की। इस अवसर पर उन्होंने देश के किसानों और अन्य उपयोगकर्ताओं के लिए एसएमएस के माध्यम से दी जा रही डीडब्ल्यूएसआर द्वारा शुरू की गई खरपतवार प्रबंधन पर ज्ञान प्रबंधन सेवा का उद्घाटन किया। उन्होंने भारतीय कृषि और संबंधित सामाजिक - आर्थिक परिदृश्य पर हरित क्रांति के प्रभाव पर भी प्रकाश डाला। अपने समापन भाषण में उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम वास्तव में तब सफल होगा जब प्रतिभागी खेतों में प्रशिक्षण के दौरान अर्जित ज्ञान को लागू करेंगे। कार्यक्रम प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरण और धन्यवाद ज्ञापन के साथ समाप्त हुआ।

(स्रोत: खरपतवार विज्ञान अनुसंधान निदेशालय, जबलपुर ,
हिन्दी प्रस्तुति: एनएआईपी मास मीडिया परियोजना, कृषि ज्ञान प्रबंध निदेशालय)