किसान मेला एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित

22 जनवरी, 2014, ग्वालियर

केन्द्रीय आलू अनुसंधान केन्द्र, ग्वालियर में 22 जनवरी, 2014 को एक किसान मेला एवं किसान प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

प्रो. ए.के. सिंह, कुलपति, आरवीएसकेवीवी, ग्वालियर ने मुख्य अतिथि के रूप में अपने संबोधन में संस्थान और इसके अनुसंधान कार्य की सराहना की। इस कार्यक्रम में आलू उत्पादन तकनीक पर एक फोल्डर भी जारी किया गया।

डॉ. वी.पी. सिंह, निदेशक, केन्द्रीय आलू अनुसंधान संस्थान, शिमला, हिमाचल प्रदेश ने अपने अध्यक्षीय भाषण में आलू उत्पादन में नई तकनीकों के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने आलू क्रांति में प्रमुख योगदान के लिए पंजाब का जिक्र किया। डॉ. सिंह ने मध्य प्रदेश के किसानों को अपना क्षेत्र और उत्पनादकता बढ़ाने के लिए अनुसंधान नवोन्मेषों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने आलू, भण्डारण योग्य आलू और प्रसंस्करण योग्य आलू के संदर्भ में ग्वालियर क्षेत्र की उपयुक्तता पर ध्यान केन्द्रित किया।

इससे पूर्व डॉ. एस.पी. सिंह, कार्यकारी प्रमुख, केन्द्रीय आलू अनुसंधान केन्द्र, ग्वालियर ने आगंतुकों का स्वागत किया।
किसानों के लिए एक तकनीकी सत्र का भी आयोजन किया गया, यहां किसानों को निम्न विषयों पर प्रशिक्षण दिया गया- आलू में गुणवत्तापूर्ण बीज उत्पादन, उर्वरक प्रबंधन, प्रमुख रोग एवं कीट प्रबंधन, उनत किस्में और बीज उत्पादन की रफिंग तकनीक। इसके बाद किसान-वैज्ञानिक वार्ता सत्र का आयोजन किया गया। मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और पंजाब के विभिन्न जिलों से 400 से ज्यादा किसानों ने इस सत्र में भाग लिया।

(स्रोत: केन्द्रीय आलू अनुसंधान केन्द्र, ग्वालियर)