भाकृअनुप संस्‍थानों में ‘जय किसान – जय विज्ञान’ सप्‍ताह समारोह

पूर्व प्रधान मंत्रियों भारत रत्‍न श्री अटल बिहारी वाजपेयी और स्‍व. चौधरी चरण सिंह की जयंती के अवसर पर दिनांक 23 से 28 दिसम्‍बर, 2015 के दौरान भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद में ‘जय किसान – जय विज्ञान’ सप्‍ताह मनाया गया। किसानों के कल्‍याण के लिए विज्ञान के उपयोग को बढ़ावा देने में इनके अमूल्‍य योगदान को ध्‍यान में रखकर यह समारोह मनाया गया।

देशभर के भाकृअनुप संस्‍थानों और कृषि विज्ञान केन्‍द्रों में अनेक किसान जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए जिनका उद्देश्‍य कृषि की उत्‍पादकता और लाभप्रदता को बढ़ाने के लिए नई प्रौद्योगिकीय प्रगति का प्रदर्शन करना था। ऐसे प्रगतिशील किसानों को सम्‍मानित किया गया जिन्‍होंने नवीनतम प्रौद्योगिकियों को सफलतापूर्वक अपनाया  और किसानों द्वारा प्रौद्योगिकियों को व्‍यापक पैमाने पर अपनाने में अपना योगदान दिया ।

 'Jai Kisan Jai Vigyan' celebrated at ICAR Institutes 'Jai Kisan Jai Vigyan' celebrated at ICAR Institutes

कृषि में छात्रों को आकर्षित करने के लिए स्‍कूलों तथा कॉलेजों में निबंध लेखन, वाद विवाद, समूह चर्चा, प्रश्‍नोत्‍तरी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।

भाकृअनुप – केन्‍द्रीय मीठा जलजीव पालन संस्‍थान, भुबनेश्‍वर

भाकृअनुप – केन्‍द्रीय मीठा जलजीव पालन संस्‍थान, भुबनेश्‍वर ने एनएफडीबी के सहयोग से काकद्वीप, पश्चिम बंगाल में दिनांक 23 दिसम्‍बर, 2015 को ‘जलजीव पालन में गुणवत्‍ता मत्‍स्‍य बीज का महत्‍व’ विषय पर किसान – वैज्ञानिक पारस्‍परिक बैठक का आयोजन किया जिसका उद्देश्‍य उत्‍पादन को बढ़ाने और अंत: प्रजनन को रोकने के लिए हेचेरी रीतियों में सुधार करने हेतु गुणवत्‍ता बीज के महत्‍व पर मत्‍स्‍य बीज उत्‍पादकों, किसानों और अन्‍य हितधारकों को जागरूक करना था।

इस बैठक में पश्चिम बंगाल सरकार के मात्स्यिकी विभाग के अधिकारियों और अन्‍य भाकृअनुप संस्‍थानों के वैज्ञानिकों तथा 150 से भी अधिक किसानों ने भाग लिया।

इस अवसर पर डॉ. पी. जयशंकर, निदेशक, भाकृअनुप – केन्‍द्रीय मीठा जलजीव पालन संस्‍थान, भुबनेश्‍वर ने 15 प्रगतिशील किसानों को सम्‍मानित किया।

भाकृअनुप – केन्‍द्रीय मीठा जलजीव पालन संस्‍थान, भुबनेश्‍वर में दिनांक 28 दिसम्‍बर, 2015 को एक वैज्ञानिक – छात्र पारस्‍परिक बैठक आयोजित की गई जिसमें लगभग 60 छात्रों ने भाग लिया और भाकृअनुप – केन्‍द्रीय मीठा जलजीव पालन संस्‍थान, भुबनेश्‍वर की कार्प संवर्धन इकाई, फीड मिल तथा एक्‍वेरियम जैसी सुविधाओं का दौरा किया । छात्रों को जलजीव पालन पर एक वीडियो भी दिखाई गई।

सभी स्‍कूली छात्रों को जलजीव पालन पर कुछ पुस्‍तकों/साहित्‍य वाली एक किट दी गई।

 दिनांक 29 दिसम्‍बर, 2015 को कृषि विज्ञान केन्‍द्र, खोरधा तथा रेडियो किसान (90.8 एफएम) के सहयोग से संस्‍थान द्वारा गांव अठन्‍तर, ब्‍लॉक बालीपाठा, जिला खोरधा में किसान – वैज्ञानिक पारस्‍परिक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें 100 से भी अधिक किसानों और कृषिरत महिलाओं ने भाग लिया। इस अवसर पर पंद्रह प्रगतिशील किसानों को सम्‍मानित किया गया।

भाकृअनुप – केन्‍द्रीय मीठा जलजीव पालन संस्‍थान, भुबनेश्‍वर द्वारा अपनी प्रौद्योगिकियों और उल्‍लेखनीय प्रकाशनों को दर्शाने के लिए एक प्रदर्शनी लगाई गई। वैज्ञानिक – किसान पारस्‍परिक बैठक के दौरान संस्‍थान तथा कृषि विज्ञान केन्‍द्र के वैज्ञानिकों ने किसानों के प्रश्‍नों का उत्‍तर स्‍थानीय भाषा में दिया। इस कार्यक्रम में रेडियो किसान, आत्‍मा, राज्‍य विभागों और इफको के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया।

भाकृअनुप – केन्‍द्रीय शुष्‍क क्षेत्र अनुसंधान संस्‍थान, जोधपुर  

भाकृअनुप – केन्‍द्रीय शुष्‍क क्षेत्र अनुसंधान संस्‍थान (CAZRI), जोधपुर  द्वारा जय किसान – जय विज्ञान सप्‍ताह के दौरान दिनांक 23 व 25 दिसम्‍बर, 2015 को किसान गोष्‍ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठियों का आयोजन राजस्‍थान के गांव खेरपा, जोधपुर;  बूसी, पाली; और गुजरात के सुवाई, रापर तथा भुज में किया गया। इन गोष्ठियों में 500 से भी अधिक किसानों ने भाग लिया।  

 'Jai Kisan Jai Vigyan' celebrated at ICAR Institutes

राजस्‍थान के गांव खेरपा में आयोजित गोष्‍ठी में श्री पी.आर. चौधरी, जिला प्रमुख, जोधपुर मुख्‍य अतिथि थे।

इस अवसर पर भाकृअनुप – केन्‍द्रीय शुष्‍क क्षेत्र अनुसंधान संस्‍थान, जोधपुर द्वारा विकसित प्रौद्योगिकियों को भी दर्शाया गया। इसके अलावा, किसानों तथा वैज्ञानिकों के बीच पारस्‍परिक चर्चा का आयोजन भी किया गया।