महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का भाकृअनुप- केन्‍द्रीय समुद्रीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान, कोच्चि का दौरा

18 अप्रैल, 2016, कोच्चि

DG, ICAR visits the ICAR- Central Marine Fisheries Research Insititute, Kochi  डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने आज भाकृअनुप – केन्‍द्रीय समुद्रीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान, कोच्चि का दौरा किया। अपने सम्‍बोधन में महानिदेशक महोदय ने जलवायु परिवर्तन के संदर्भ में मात्स्यिकी क्षेत्र में मुद्दों का समाधान करने के महत्‍व पर बल दिया और य‍ह निर्देश दिया कि संस्‍थान द्वारा अपनी स्‍थापना से खोजी गई तथा वर्णन की गई सभी नई समुद्रीय मत्‍स्‍य प्रजातियों का एक डाटाबेस तैयार किया जाए।

डॉ. महापात्र के साथ श्री छबिलेन्‍द्र राउल, आईएएस, अपर सचिव, डेयर एवं सचिव, भाकृअनुप भी थे। उन्‍होंने भाकृअनुप – सीएमएफआरआई द्वारा हालिया उपलब्धियों की सराहना की और भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में समुद्रीय मात्स्यिकी की महत्‍वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डाला।

इस अवसर पर, महानिदेशक महोदय द्वारा कोबिया तथा सीबास जैसी संक्रमित समुद्री मछलियों में बीटानोडा वायरस की पहचान के लिए β Nodadetect – एक सिंगल टयूब रिवर्स ट्रांसक्रिप्‍शन लूप मीडिएटिड आइसोथर्मल एम्‍पलीफिकेशन (सिंगल टयूब RT – लैम्‍प)  नैदानिकी किट को जारी किया गया। यह किट अत्‍यंत विशिष्‍ट और लागत प्रभावी है। इस अवसर पर त्‍वरित डाटा संकलन तथा पुन: प्राप्ति की सुविधा के लिए सीएमएफआरआई सर्वे स्‍टॉफ द्वारा स्‍वयं ही पीसी टैबलेट्स का प्रयोग करके मत्‍स्‍य अवतरण केन्‍द्रों से समुद्री मत्‍स्‍य अवतरण का अनुमान लगाने के लिए ऑन लाइन वेब आधारित एप्‍लीकेशन प्रारंभ किया गया।

भाकृअनुप – सीएमएफआरआई द्वारा संचालित की जाने वाली इंडियन मैरीन मैमल स्‍ट्रान्डिंग एंड साइटिंग नेटवर्क (IMMSSN) की वेबसाइट को भी प्रारंभ किया गया।

इस अवसर पर महानिदेशक द्वारा एफएओ (संयुक्‍त राष्‍ट्र) के प्रकाशन ‘वोलेन्‍टरी गाइडलाइन्‍स फॉर सेक्‍यूरिंग सस्‍टेनेबल स्‍माल स्‍केल फिशरीज इन दि कानटेक्‍स्‍ट ऑफ फूड सेक्‍युरिटी एंड पॉवर्टी इरेडिकेशन’ के मलयालम अनुवाद तथा भाकृअनुप–सीएमएफआरआई–कृषि विज्ञान केन्‍द्र समाचारपत्र को भी जारी किया गया।

(स्रोत : भाकृअनुप–केन्‍द्रीय समुद्रीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान, कोच्चि)