भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय डेरी अनुसंधान संस्‍थान, करनाल में संस्‍थान – उद्योग बैठक का आयोजन

17th दिसम्‍बर, 2015

भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय डेरी अनुसंधान संस्‍थान (NDRI), करनाल द्वारा व्‍यावसायीकरण के लिए उद्योगों और उद्यमियों के सम्‍मुख अपनी प्रौद्योगिकियों को प्रस्‍तुत करने के प्रयोजन से आज यहां संस्‍थान – उद्योग बैठक का आयोजन किया गया। अपनी प्रौद्योगिकियों का प्रस्‍तुतिकरण करने के लिए इस बैठक में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के आठ अन्य संस्‍थानों ने भी भाग लिया। इस बैठक में कुल मिलाकर लगभग 100 प्रौद्योगिकियों को उद्योग के सम्‍मुख प्रस्‍तुत किया गया जो कि व्‍यावसायीकरण के लिए तैयार हैं।

Institute-Industry Meet Organized at ICAR-NDRIInstitute-Industry Meet Organized at ICAR-NDRI

डॉ. ए.के. श्रीवास्‍तव, निदेशक, भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय डेरी अनुसंधान संस्‍थान, करनाल ने बैठक का उद्घाटन करते हुए कहा कि एनडीआरआई द्वारा प्रौद्योगिकियों को विकसित करने में उल्‍लेखनीय प्रगति की गई है और साथ ही अनेक प्रौद्योगिकियों को डेरी उद्योग के साथ-साथ उद्यमियों को स्‍थानान्‍तरित भी किया गया  है। वर्ष 2014-15 में जहां 20 प्रौद्योगिकियां स्‍थानान्‍तरित की गईं वहीं वर्ष 2015-16 में 17 दिसम्‍बर, 2015 तक 12 प्रौद्योगिकियों को स्‍थानान्‍तरित किया जा चुका है।

इस अवसर पर डॉ. आर.के. मलिक, संयुक्‍त निदेशक (अनुसंधान), भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय डेरी अनुसंधान संस्‍थान, करनाल ने कहा कि इस बैठक का मुख्‍य प्रयोजन वैज्ञानिकों और उद्योग के बीच अन्‍तराल को पाटना है।

दूध में संदूषकों और कीटनाशकों का पता लगाने के लिए स्ट्रिप आधारित जांच और दूध और दुग्‍ध उत्‍पादों में डिटरजेन्‍ट, एन्‍टीबायोटिक्‍स, रोगजनकों का पता लगाने के लिए त्‍वरित जांच का प्रदर्शन किया गया।

इस बैठक में नेस्‍ले इंडिया लि.; मदर डेयरी, दिल्‍ली; ग्‍लैक्‍सो स्मिथलाइन; राष्‍ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड; मॉडर्न डेयरीज, करनाल; न्‍यूजेन डाइगोनिस्टिक, सिकन्‍दराबाद; तथा मधु डेयरी, बिहार ने भाग लिया।

डॉ. राजन शर्मा, सदस्‍य सचिव, जोनल प्रौद्योगिकी प्रबंधन इकाई ने धन्‍यवाद ज्ञापन प्रस्‍तुत किया।

(स्रोत : भाकृअनुप – राष्‍ट्रीय डेरी अनुसंधान संस्‍थान (NDRI), करनाल)