अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुरूप सटीक कृषि मशीनरी के विकास पर जोर

6 अक्तूबर, 2016, भोपाल

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव, डेयर एवं महानिदेशक (भाकृअनुप) ने आज भाकृअनुप-केन्द्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल का दौरा किया। डॉ. महापात्र ने अपने संबोधन में भारतीय कृषि में मशीनीकरण की भूमिका पर जोर दिया और अंतरराष्ट्रीय मानदंड़ों के अनुरूप सटीक कृषि मशीनरी के विकास का सुझाव दिया।

6th October 2016, Bhopal6th October 2016, Bhopal6th October 2016, Bhopal6th October 2016, Bhopal

उन्होंने 125 सोया आधारित उद्योगों और 400 से अधिक कस्टम हायरिंग केन्द्रों की स्थापना के लिए मदद करने पर संस्थान की प्रषंसा की। ऐसे एग्री बिजनेस उद्योगों द्वारा दूसरों को प्रेरणा देने के लिए उन्होंने इन सफलता गाथाओं का दस्तावेज और विडियो फिल्म बनाने के लिए कहा।

डॉ. महापात्र ने संस्थान के प्रोटोटाइप उत्पादन केन्द्र की प्रषंसा की और किसानों को बेहतर मशीनरी मुहैया करवाने के लिए प्रौद्योगिकी व्यावसायीकरण और औद्योगिक सामंजस्य की सलाह दी।

डॉ. के.के. सिंह, निदेशक, भाकृअनुप-केन्द्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल ने संस्थान की उपलब्धियों के विशय में बताया।
महानिदेशक के साथ डॉ. एस.के. चौधरी, सहायक महानिदेशक (मृदा) और डॉ. पी.के. अग्रवाल, सहायक महानिदेशक (एनएएसएफ) ने भी संस्थान का दौरा किया।

(स्रोत : भाकृअनुप-केन्द्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल )