आईसीएआर-एनआरआरआई में खरीफ-पूर्व किसान बैठक

3 जून, 2016, जाजपुर, ओडिशा

भाकृअनुप - राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान, कटक द्वारा ओडिशा, जाजपुर, दानागाड़ी ब्लॉक के रामथेन्गा गांव में जनजातीय उपयोजना (टीएसपी) के तहत "खरीफ-पूर्व किसान बैठक” का आयोजन किया गया।

Pre-Kharif Farmers Meet at ICAR-NRRIPre-Kharif Farmers Meet at ICAR-NRRI

डॉ. ए.के. नायक, निदेशक, भाकृअनुप – एनआरआरआई ने अपने संबोधन में कहा कि टीएसपी उपयोजना का मुख्य उद्देश्य जनजातीय एवं गैर-जनजातीय बहुलता वाले क्षेत्रों के अंतर को समाप्त करना है। इसके साथ ही जनजातीय लोगों को कौशल विकास के माध्यम से मुख्यधारा में लाना भी है। निदेशक महोदय ने रामथेन्गा गांव में ‘खेत आदान प्रयोगकर्ता संघ (एफआईयूए)’ का उद्घाटन किया जो - ग्रामसभा के तहत बनाया गया है। उन्होंने एफआईयूए के लिए विकसित तथा प्रदर्शन हेतु 34 प्रकार के कृषि उपकरणों को सदस्यों के प्रयोग हेतु संघ को प्रदान किया। उन्होंने धान के बीज व एनआरआरआई द्वारा हाल ही में जारी मिनी किट को जनजातीय किसानों एवं महिला किसानों को वितरित किया।

श्रीमती सुमित्रा जमुड़ा, सरपंच, ग्रामपंचायत, श्री बुधन सिंह जमुड़ा, ग्राम प्रधान द्वारा सभा के माध्यम से एफआईयूए के 13 सदस्यों वाले कार्यकारी निकाय का सर्वसम्मति से चुनाव किया गया।

गांव के कृषि उत्पादन व उत्पादकता और कृषि संबंधित समस्याओं पर किसान-वैज्ञानिक संवाद एवं प्रतिक्रिया सत्र का भी आयोजन किया गया। इस संवाद के परिणामस्वरूप एक कार्य योजना तैयार की गई जिसके तहत खेतों में प्रदर्शनियां की जायेंगी तथा खरीफ में कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए क्षमता निर्माण कार्यक्रमों के संचालन किये जायेंगे।

टाटा स्टील ग्रामीण विकास संस्था (टीएसआरडीएस) व कार्यक्रम से जुड़े संस्थान के कर्मचारियों व वैज्ञानिकों के साथ ही 200 से ज्यादा जनजातीय किसानों एवं महिला किसानों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

टाटा स्टील ग्रामीण विकास संस्था (टीएसआरडीएस) व कार्यक्रम से जुड़े संस्थान के कर्मचारियों व वैज्ञानिकों के साथ ही 200 से ज्यादा जनजातीय किसानों एवं महिला किसानों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।