हिंदी के उपयोग को बढ़ावा

सिरकॉट द्वारा यूनिकोड प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित

Mumbai

Training Programme on Unicode Organized by CIRCOTकेंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान ( सिरकॉट ), मुम्बई ने 1-31 जुलाई 2010 के बीच एक यूनिकोड कम्प्यूटिंग प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान मंत्र अनुवाद सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी दी गई, जिसके माध्यम से करीब बीस भारतीय भाषाओं से हिंदी में अनुवाद किया जा सकता है। इसके अलावा इस कार्यक्रम में फॉन्ट का रूपांतरण, डिक्टेशन सॉफ्टवेयर और प्रबोध, प्रवीन और प्रज्ञा की आन लाइन परीक्षा के विषय में भी जानकारी दी गई।

यूनिकोड एक सार्वभौमिक इनकोडिंग प्रणाली है जिसका उपयोग मुख्यतः विभिन्न वर्णों और प्रतीकों के प्रतिनिधित्व का दुनिया भर के विभिन्न लेखन शैली में व्यक्त करने के लिए किया जाता है। इस कम्प्यूटर में हर प्रकार के डेटा पाठ, प्रतीक या संख्या के रूप में संग्रहित होते हैं। इस संख्या को आॅपरेटिंग सिस्टम द्वारा डिकोड किया जाता है और उसे एक पत्र के रूप में स्थानांतरित किया जाता है ताकि वह कम्प्यूटर स्क्रीन पर दिखाई पड़ सके। वर्ष 1991 में डिजाइन और स्तरीय अंतर्राष्ट्रीय टेक्स्ट कैरेक्टर इनकोडिंग प्रणाली के विकास के लिए इसे एक अंतर्राष्ट्रीय यूनिकोड कंसोर्टियम में शामिल किया गया, जिसे यूनिकोड परिवर्तन प्रारूप (यूटीएफ) नाम दिया गया। यह बहुभाषी कम्प्यूटर संसाधन में सहायक हो सकता है।

इस प्रशिक्षण के माध्यम से प्रशिक्षुओं को इस क्षेत्र में काफी प्रेरणा मिली। उनमें से कई ने तो अपने प्रतिदिन के काम के लिए हिंदी में टाइपिंग भी शुरू कर दी। प्रशिक्षण के सही उपयोग के लिए आवश्यक है कि इस सॉफ्टवेयर यूनिकोड को सरकारी कार्यालयों के हर कम्प्यूटर में स्थापित किया जाए। कार्यक्रम के प्रशिक्षकों में पुणे और मुम्बई के हिंदी तकनीक योजना के सहायक निदेशक शामिल थे।

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के 97 वैज्ञानिकों, तकनीकी एवं प्रशासनिक श्रेणी के सदस्यों को प्रशिक्षित किया गया।

(स्रोत- एनएआईपी सब-प्रोजेक्ट मास-मीडिया मोबिलाइजेशन, दीपा और सिरकॉट, मुम्बई)