रि-भोई, मेघालय में प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना पर किसान मेला व जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

5 अप्रैल, 2016 उमियाम, मेघालय

उत्‍तर पूर्वी पर्वतीय क्षेत्र के लिए भाकृअनुप. के अनुसंधान परिसर, उमियम, मेघालय के अंतर्गत आने वाले कृषि विज्ञान केन्‍द्र, रि-भोई द्वारा आज यहां प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) पर एक दिवसीय किसान मेले एवं जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। .

Farmers Fair-Cum-Awareness Programme on Pradhan Mantri Fasal Beema Yojana at  Ri-Bhoi Farmers Fair-Cum-Awareness Programme on Pradhan Mantri Fasal Beema Yojana at  Ri-Bhoi

शिलांग के माननीय सांसद श्री विन्‍सेंट एच. पाला ने कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) के तहत फसल बीमा योजना की महत्‍ता पर बल दिया। उन्‍होंने किसानों को इस योजना का पूरा लाभ उठाने के लिए प्रोत्‍साहित किया और बताया कि इससे प्राकृतिक आपदाओं अथवा कीटों व रोगों के कारण होने वाले फसल नुकसान के लिए समय पर बीमा कवरेज और वित्‍तीय सहायता मिल सकेगी। उन्‍होंने इस तथ्‍य पर भी बल दिया कि जलवायु परिवर्तन और प्रतिकूल अथवा अनियमित मौसम परिस्थितियों के कारण दीर्घावधि में मिलने वाले लाभों के लिए किसानों को सहायता प्रदान करने वाली विभिन्‍न योजनाओं के बारे में किसानों को पूरी जानकारी रखनी चाहिए।

डॉ. ए.के. त्रिपाठी, प्रभारी निदेशक, भाकृअनुप. उमियम एवं कृषि विज्ञान केन्‍द्रों के नोडल अधिकारी ने रि-भोई जिले के किसानों से इस योजना का लाभ उठाने का अनुरोध किया।

डॉ. बी.सी. डेका, निदेशक, अटारी जोन-3, भाकृअनुप. उमियम ने योजना के बारे में विस्‍तार से बताते हुए कृषि विज्ञान केन्‍द्रों से किसानों के वित्‍तीय उत्‍थान और उनकी फसलों का बीमा कराने को सुनिश्चित बनाने में कहीं अधिक सक्रिय भूमिका निभाने का आह्वान किया।

फादर जेम्‍स, निदेशक, आरआरटीसी, उमियम ने अपने सम्‍बोधन में इस योजना के माध्‍यम से किसानों को मिलने वाले विभिन्‍न लाभों के बारे में बताया।

इससे पूर्व, डॉ. मोकीदुल इस्‍लाम, कार्यक्रम समन्‍वयक, कृषि विज्ञान केन्‍द्र, रि-भोई ने किसानों से खरीफ फसलों के लिए 2 प्रतिशत, रबी फसलों के लिए 1.5 प्रतिशत और व्‍यावसायिक व बागवानी फसलों के लिए 5 प्रतिशत की निम्‍नतर दर पर प्रीमियम का भुगतान करते हुए प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) के तहत अपनी फसलों का बीमा कराने का अनुरोध किया।

इस कार्यक्रम में संयुक्‍त निदेशक, कृषि एवं बागवानी निदेशालय, मेघालय सरकार; परियोजना निदेशक, आत्‍मा; डीडीएम; नाबार्ड; विभिन्‍न बीमा कम्‍पनियों के प्रतिनिधियों, भाकृअनुप, उमियाम के वैज्ञानिकों एवं स्‍टाफ के साथ साथ रि-भोई जिले के लगभग 300 किसानों ने भी भाग लिया।

(स्रोत : कृषि विज्ञान केन्‍द्र, रि-भोई, मेघालय)