प्याज व लहसुन पर अखिल भारतीय नेटवर्क अनुसंधान परियोजना की वार्षिक समूह बैठक

6 फरवरी, 2015

प्‍याज व लहसुन पर अखिल भारतीय नेटवर्क अनुसंधान परियोजना की वार्षिक समूह बैठक का आयोजन भाकृअनुप – प्‍याज एवं लहसुन अनुसंधान निदेशालय, राजगुरूनगर, पुणे तथा कृषि एवं बागवानी विज्ञान विश्‍वविद्यालय, शिवमोगा द्वारा देवनगर, कर्नाटक में दिनांक 6 – 7 फरवरी, 2015 को किया गया।

Annual Group Meeting of AINRPOG

इस बैठक में 60 से भी अधिक प्‍याज व लहसुन अनुसंधानकर्मियों ने भाग लिया। निजी प्‍याज बीज उत्‍पादक कम्‍पनियों, कृषि विज्ञान केन्‍द्रों  तथा राज्‍य कृषि विभागों ने भी इसमें अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। आपसी विचार-विमर्श में कुछ प्रगतिशील किसानों ने भी भाग लिया।

समूह बैठक में लहसुन की एक किस्‍म जी-386, रबी प्‍याज की एक किस्‍म नामत: Col.744 (लाल) तथा खरीफ प्‍याज की एक किस्‍म एनआरसीडब्‍ल्‍यूओ – 3 (सफेद) की सिफारिश खेती के लिए जारी करने हेतु की गई। पहले से जारी की जा चुकीं प्‍याज किस्‍में भीमा सुपर, भीमा डार्क रेड़ तथा भीमा श्‍वेता उत्‍पादन के लिए उपयुक्‍त पाईं गईं और इनकी सिफारिश सेट्स का उपयोग करके अगेती खुदाई के लिए खरीफ फसल तैयार करने हेतु की गई।

(स्रोत : भाकृअनुप – प्‍याज एवं लहसुन अनुसंधान निदेशालय, राजगुरूनगर, पुणे)