सूक्ष्मजीवों के संरक्षण की विधियों पर प्रशिक्षण कार्यक्रम

Training Programme on Preservation Methods of Microorganismsभाकृअनुप - राष्ट्रीय कृषि के लिए महत्वपूर्ण सूक्ष्म जीव ब्यूरो, मऊ द्वारा "सूक्ष्मजीव पालन एवं रखरखाव" विषय पर दस दिवसीय (2-11 अगस्त, 2016) प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम भाकृअनुप के विभिन्न संस्थानों पर कार्यरत तकनीकी कर्मचारियों के लिए था जिसके परिणामस्वरूप सूक्ष्म जीव संग्रहालयों तथा प्रयोगशालाओं में पालन एवं रखरखाव संबंधित विशेषज्ञता का विस्तार हो सके।

डॉ. अनिल के. सक्सेना, निदेशक, भाकृअनुप- एनबीएआईएम ने 2 अगस्त, 2016 के अपने संबोधन में प्रतिभागियों को सूक्ष्मजीव विज्ञान की आधारभूत तकनीकों की जानकारी दी।

प्रशिक्षण दो भागों में बंटा हुआ था पहला हिस्सा सूक्ष्मजीवों की कार्यात्मक विशेषताएं, विलगन तथा पहचान और दूसरा हिस्सा सूक्ष्मजीवों के रखरखाव और संरक्षण के तरीकों पर आधारित था। इस प्रशिक्षण में सूक्ष्मजीव विज्ञान से संबंधित 14 सिद्धांत और 13 व्यावहारिक सत्र थे जो अल्पकालिक और दीर्घकालिक तरीकों के माध्यम से सुचारू प्रयोगशाला विधियों, विलगन, लक्षण, रखरखाव व सूक्ष्मजीवों के संरक्षण से संबंधित थे।

प्रशिक्षण में 16 प्रतिभागियों ने भाग लिया जिनमें 5 तकनीकी अधिकारी और 11 तकनीकी सहायक थे। 9 राज्यों तथा भाकृअनुप के 13 संस्थानों के प्रतिनिधि प्रतिभागियों ने इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया जो दक्षिण में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह तथा उत्तर में हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों से आए हुए थे।

(स्रोतः भाकृअनुप- राष्ट्रीय कृषि के लिए महत्वपूर्ण सूक्ष्मजीव ब्यूरो, मऊ, उत्तर प्रदेश)