"अल्प प्रयुक्त सब्जी फसलों के आनुवांशिक संवर्धन के क्षेत्र में प्रगति" पर लघु पाठ्यक्रम का उद्घाटन

18 अक्टूबर, 2016, वाराणसी

"अल्प प्रयुक्त सब्जी फसलों के आनुवांशिक संवर्धन के क्षेत्र में प्रगति" पर शिक्षा संभाग, भाकृअनुप द्वारा प्रायोजित पाठ्यक्रम भाकृअनुप – राष्ट्रीय सब्जी अनुसंधान संस्थान, वाराणसी में आयोजित किया गया।

A ten-day short course on “Advances in Genetic Enhancement of Underutilized Vegetable Crops”A ten-day short course on “Advances in Genetic Enhancement of Underutilized Vegetable Crops”

डॉ. बी. सिंह, निदेशक, भाकृअनुप – आईआईवीआर ने अपने अभिभाषण में इन सब्जियों के पोषण महत्व व जलवायु परिवर्तन से निपटने की क्षमता के बारे में बताया। उन्होंने अल्प प्रयुक्त सब्जियों पर केन्द्रित शोध कार्यों की आवश्यकता को दुहराया जिससे इन सब्जियों के पोषण और औषधीय गुणों में वृद्धि की जा सके।

पाठ्यक्रम में 8 राज्यों में स्थित 14 भाकृअनुप संस्थानों और एसएयू के प्रतिभागी शामिल हैं।

पाठ्यक्रम में सब्जी फसलों से जुड़े विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी व्याख्यानों और व्यावहारिक सत्रों के माध्यम से दी जाएगी।

(स्रोतः भाकृअनुप – राष्ट्रीय सब्जी अनुसंधान संस्थान, वाराणसी)