श्री हरीश रावत ने कृषि उत्पादों की निर्यात संभावना पर भारत - आसियान संगोष्ठी का उद्घाटन किया

18 अक्टूबर, 2012, नई दिल्ली

Symposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture Products"कई आसियान सदस्य उत्कृष्ट कृषि जलवायु परिस्थितियों का लाभ उठाते हुए उन वस्तुओं का उत्पादन कर रहे हैं, जो भारत में बड़ी मात्रा में आयात की जाती है। इसी प्रकार भारत, आसियान के सदस्य राज्यों द्वारा आयातित वस्तुओं के लिए एक महत्वपूर्ण स्रोत बन सकता है। इसलिए मेरा मानना ​​है कि सदस्य देशों को कृषि उत्पादन और व्यापार नीतियां बनानी चाहिए जो अधिक से अधिक कृषि वस्तुओं में द्विपक्षीय व्यापार को प्रोत्साहित करें।” श्री हरीश रावत, कृषि राज्य, खाद्य प्रसंस्करण, उद्योग एवं संसदीय कार्य मंत्री, भारत सरकार, ने कहा कि कृषि एवं वानिकी पर दूसरी भारत-आसियान मंत्री स्तरीय बैठक के साथ आयोजित ‘भारत-आसियान कृषि उत्पादों की निर्यात संभावना-वृद्धि की क्षमता’ संगोष्ठी का उद्घाटन करते हुए उन्होंने अपने विचार सामने रखे। कृषि शिक्षा, शोध और विस्तार पर आईसीएआर की क्षमताओं को बताते हुए उन्होंने इस मूल्यवान संसाधन को कृषि क्षेत्र और किसानों, उपभोक्ताओं व उद्योगों की बेहतरी के लिए प्रयोग करने की सलाह दी।  

श्री अभिजीत सेन, सदस्य, योजना आयोग और समारोह के सम्मानित अतिथि ने आसियान क्षेत्र में आर्थिक सहयोग का उल्लेख करते हुए भारत और आसियान देशों के बीच बढ़ते व्यापार पर संतोष जताया। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस आयोजन द्वारा नेता, नीति-निर्माता और व्यापारी एकसाथ व्यापार को प्रभावित करने वाली चुनौतियों और मुद्दों पर विचार करेंगे। श्री सेन ने कहा कि भारत और आसियान देशों के बीच कृषि व्यापार को बढ़ाने के लिए योजना तैयार करने की आवश्यकता है। 

Symposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture Products
Symposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture ProductsSymposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture Products

महामहिम डॉ. रुसमान हेरिआवान, कृषि उपमंत्री, इंडोनेशिया ने अपने विशेष भाषण में भारत और उसकी आर्थिक वृद्धि की सराहना करते हुए कहा कि आसियान आपसी लाभ और क्षेत्र की भलाई के लिए भारत के साथ मजबूत आर्थिक सहयोग करना चाहता है।

श्री जाईप्लादेथ चोउलामेनी, महानिदेशक,  योजना विभाग, लाओस पीडीआर ने अपने विशेष भाषण में आसियान देशों और भारत के बीच व्यापार, कृषि और अन्य क्षेत्रों में आपसी सहयोग की बढ़ती आवश्यकता पर बल दिया।

Symposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture ProductsSymposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture Products

श्री अश्विन श्रॉफ, अध्यक्ष, सीआईआई राष्ट्रीय कृषि और जैव प्रौद्योगिकी, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एक्सेल इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने 'कृषि उत्पादों की निर्यात संभावना' पर एक प्रस्तुति दी जिसमें उन्होंने चुनौतियों का सविस्तार विवरण दिया और इनसे उबरने का रास्ता भी सुझाया।

Symposium on Indo-ASEAN Export Potential of Agriculture Productsइससे पूर्व, डॉ. एस. अय्यप्पन, सचिव, डेयर और महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया और आशा व्यक्त की कि संगोष्ठी में विचार - विमर्श से आपसी सहयोग और चुनौतियों से संबंधित क्षेत्रों की पहचान करने में सहायता मिलेगी।

विचार-विमर्श पैनल विशेषज्ञों के साथ चार तकनीकी सत्रों के तहत चलेगा। आसियान देशों और आसियान सचिवालय, डेयर / आईसीएआर और सीआईआई और उद्योगों के प्रतिनिधि और वरिष्ठ अधिकारियों ने संगोष्ठी में भाग लिया।

श्री डी. सेनगुप्ता, वरिष्ठ सलाहकार, सीआईआई ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

 

(स्रोत: एनएआईपी मास मीडिया परियोजना, कृषि ज्ञान प्रबंध निदेशालय)