खाद्य सुरक्षा में कृषि अनुसंधान और विकास की महत्वपूर्ण भूमिका: श्री तारिक अनवर

29 मार्च 2013, भीमताल

श्री तारिक अनवर, कृषि और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री ने शीतजल मात्स्यिकी अनुसंधान निदेशालय (डीसीएफआर), भीमताल का दौरा 29 मार्च, 2013 को किया। डॉ. ए. बारत, निदेशक, डीसीएफआर ने श्री अनवर का स्वागत करते हुए संस्थान के अनुसंधान कार्यक्रमों और गतिविधियों की संक्षिप्त जानकारी दी। श्री अनवर ने विभिन्न प्रयोगशालाओं और आधारभूत सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया। इस दौरान उन्होंने उत्तराखण्ड के प्रगतिशील किसानों में मत्स्य बीज का वितरण किया। उन्होंने वैज्ञानिकों और किसानों के समूह को संबोधित किया और फसलों, सब्जियों, पशु और मात्स्यिकी के क्षेत्र में भा.कृ.अनु.प. के वैज्ञानिक योगदान की सराहना की। श्री अनवर ने कहा कि भा.कृ.अनु.प. पद्धति के तहत कार्यरत वैज्ञानिक संगठनों ने भारत के खाद्य उत्पादन को रिकॉर्ड उच्च स्तर पर लाने के लिए सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने गरीबी उन्मूलन और आजीविका के अवसर जुटाने के लिए कृषि की भूमिका के विषय में भी विचार प्रस्तुत किये। उन्होंने उत्तराखण्ड के प्रगतिशील किसानों को सम्मानित करते हुए विशिष्ट सराहनीय कार्यों के लिए बधाई दी। श्री अनवर ने डीसीएफआर को दिया गया आईएसओ 9001:2008 सर्टिफिकेट जारी किया और संस्थान की वेबसाइट का उद्घाटन किया।

Address by MOSFish Seed Distribution to tribal farmers by MOSRelease of ISO 9001:2008 certificate by MOSFelicitation of Women tribal farmer by MOS Demonstration of poly tanks

इस अवसर पर विभिन्न भा.कृ.अनु.प. संस्थानों के निदेशक भी उपस्थित थे।

(स्रोतः डीसीएफआर, भीमताल)
(हिन्दी प्रस्तुतिः एनएआईपी मास मीडिया परियोजना, कृषि ज्ञान प्रबंध निदेशालय)